लेखिका : सीमा खान

हेल्लो दोस्तो, मेरा नाम रीमा है और यह मेरा बदला हुआ नाम है ! आज मैं आप लोगों को मेरी आप बीती कहानी सुनाती हूँ !

आप लोगों को मैं बता दूँ कि मेरा साइज़ है – ३८,२६,३६ और मेरी उम्र २७ साल है ! मैं शुरू से ही सेक्सी दिखाई देती हूँ और मेरी शादी के बाद तो मेरे स्तन और भी बड़े हो गये थे ! मैं जब भी बाहर जाती तो सभी की नज़र मेरी गांड पर और मेरे वक्ष पर होती थी ! मैंने एक शेख से शादी की थी और शादी के बाद दुबई चली गई !

मेरी शादी के कुछ ही महीनों बाद मेरे पति का एक सड़क दुर्घटना में देहांत हो गया ! मेरे पति का एक गारमेंट शॉप भी था और उस की ज़िम्मेदारी मुझ पर आ गई ! मैंने मेरे पति के निधन के १ महीने के बाद शॉप पुनः खोली तो उस वक़्त कोई भी वर्कर नहीं था दुकान में, जिससे मुझे काफी परेशानी उठानी पड़ती थी ! मैंने एक अखबार में इश्तहार दिया की मुझे सेल्समैन की ज़रूरत है और यह भी छपवा दिया कि उसे रहने और खाने की सहूलियत भी दी जायेगी !

कुछ दिन बाद एक लड़के ने मुझे फ़ोन किया और कहा,” क्या आप को किसी सेल्समैन की ज़रूरत है ?”

तो मैंने कहा,” हाँ !” मैंने उसे पूरी बात बता दी और उस ने कहा कि वो कल से काम पर आ जायेगा !

फिर वो दूसरे दिन काम पर आ गया ! मैंने उसे देखा तो बस देखती ही रह गई क्यूंकि वो एक दम हट्टा-कट्टा था ! उसकी बॉडी भी अच्छी शेप में थी ! वो मेरे पास आया और उस ने मुझसे पूछा,”क्या आप ही रीमा हैं ?”

मैंने कहा,” हाँ !”

तो उसने कहा,” मैंने आप को कल फ़ोन किया था और और आप ने मुझे काम पर आने को कहा था !”

मैंने उसे कहा,” यहाँ काम सुबह १० बजे से रात को ९ बजे तक करना होगा !”

वो राजी हो गया और मैंने उसे तनख्वाह के बारे में भी बता दिया और उसने कहा,”आपने और कुछ भी छपवाया था !”

मैंने पूछा,”क्या ?”

उसने कहा,”खाने का और रहने का ??”

मैंने कहा,”यहाँ मेरे पास एक कमरा है और खाना भी मेरे ही यहाँ खाना होगा ! “

तो उसने कहा,”मैं अभी आता हूँ !” और वो कुछ २ घंटे के बाद एक बैग के साथ आया !

मैंने उससे पूछा,” इस में क्या है?”

उसने कहा,” यह मेरा सामान है ! ” और वो काम पर लग गया !
रात को जब मैं दूकान बंद कर के घर जाने लगी तो उसने मुझे पीछे से आवाज़ लगाई,” मैडम, मैडम ! ”

मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो वो समीर था और फिर हम लोग घर आ गये ! मैंने उसको खाना दिया और मेरे घर के बाहर एक कमरा भी दे दिया ! फिर मैं सोने चली गई !

फिर कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा ! रविवार को मैं दुकान बंद रखती थी तो उस दिन समीर अपने कमरे में कसरत कर रहा था ! मैं उसे मेरे बेडरूम में से देख रही थी ! उसे देखते ही न जाने मुझे क्या हो जाता था, मैं बस अपनी चूत को और अपने बूब्स को सहला देती थी और अपनी चूत में ऊँगली या मूली डाल कर चुदाई करती थी !

अब मैंने सोच लिया था कि चाहे कुछ भी हो जाए, मैं इस लड़के से चुदवा कर रहूंगी !

मैंने धेरे-धीरे अपना कपड़े पहनने का स्टाइल बदल दिया और एक दम लो-कट गाउन पहनती थी ! जब भी वो मेरे करीब होता तो मैं जानबूझ कर मेरा दुपट्टा हटा देती थी ताकि उसे मेरे आधे स्तन दिखाई दें ! वो मेरे बूब्स को देखता ही रह जाता था ! और फिर मैं उसे रोज़ अपने ही घर में खाने को बुलाती थी और घर पर मैं सिर्फ पारदर्शी गाउन पहनती थी जिस से उसे मेरा सारा बदन दिखाई दे !

एक रात मैंने उसे कहा- मेरे सारे बदन में दर्द है ! उस दिन शनिवार था और दूसरे दिन दूकान बंद थी !

उसने कहा,”क्या मैं आपका बदन दबा दूं ?”

मैंने कहा,”ठीक है !”

मैं उसे अपने बेडरूम में लेकर आ गई और बेड पर पेट के सहारे लेट गई ! उस ने मेरी पीठ पर जैसे ही हाथ रखा ,मेरे तो तन बदन में जैसे एक आग दौड़ गई क्यूंकि मुझे किसी मर्द ने पूरे 6 महीने के बाद हाथ लगाया था ! उसने मेरी बरसों की वासना को फिर से भड़का दिया ! फिर कुछ देर पीठ को दबाने के बाद मैंने उसे कहा,”मैं अपना गाउन उतार देती हूँ ताकि तुम्हें आसानी हो बदन दबाने में !”

मैंने झट से अपना गाउन उतार दिया ! अब मैं सिर्फ ब्रा और पैंटी में ही थी और वो मुझे घूर-घूर कर देख रहा था ! मैंने भी उस का उभरा हुआ लंड देख लिया था ! अब मुझे और भी मज़ा आने लगा ! मैंने उसे कहा,” क्यूँ न तुम भी अपने कपड़े उतार दो ….!”

पहले तो वो शरमाया लेकिन मेरे थोड़ा कहने पर उसने अपने कपड़े उतार दिए , सिवाए अंडरवियर के ! मैंने उसके अंडरवियर के अन्दर फूले हुए लण्ड को देखा ! फिर मैंने उसे कहा,”मेरी ब्रा भी खोल दो !”

उसने झट से ब्रा को खोल दिया और मैं पीठ के बल लेट गई ! वो मेरे बूब्स को देखता रहा !

मैंने उसे कहा,” ज़रा मेरे बूब्स भी दबा दो…………! ”

उसने बड़े ही मुलायम हाथों से मेरे बूब्स को दबाया ! थोड़ी देर मेरे बूब्स दबाने के बाद मैंने उस का लंड पकड़ लिया तो वो हैरान हो गया …………..!

मैंने उससे कहा,” इसमें हैरान होने की कोई बात नहीं है ! तुमने भी तो मेरे बूब्स को दबाया है ! अब मैं भी तुम्हारा लंड दबाउंगी! ” मैंने उसका अंडरवियर उतारा और उसका लंड अपने मुंह में ले लिया और उसे चूस-चूस कर उस का पानी निकाल दिया !

फिर मैंने उसे कहा,”अब तुम्हारी बारी ……!”

उस ने मेरी पैंटी उतारी और अपनी ऊँगली से मेरी चूत को चोदने लगा ! मैं जोश के कारण , आआआआआ ऊऊऊऊऊऊऊ अहहहहहाहा म्म्म्म्म्म कर रही थी ! फिर मैं भी झड़ गई और उसने मेरा सारा पानी पी लिया ! फिर हम लोग एक दूसरे से लिपट कर सोये रहे !

फिर कुछ देर के बाद मैंने उस को एक स्प्रे दिया जो मेरा पति इस्तेमाल करता था ! वो स्प्रे लंड पर छिड़कने से लंड तकरीबन १ घंटे तक अपना पानी नहीं छोड़ता है ! फिर मैंने वो स्प्रे उसके लंड पर छिड़का और उस का लंड खड़ा हो गया ! अब मैंने अपनी टांगें फैला ली और उसे अपनी चूत का द्वार दिखाया ! मैंने उसे इशारा किया कि वो अपना लंड मेरी चूत में डाल दे ! उसने अपना लंड मेरी चूत के द्वार पर रखा और एक झटका मारा ! मेरे मुंह से एक चीख निकली, ” आआआआआआआ ” मैंने 6 महीने से लंड नहीं खाया था न, इसी लिए ! उसने एक और धक्का मारा जिससे कि उसका लंड मेरी चूत में समा गया ! मैंने उस का लंड वैसे ही अपनी चूत में रहने दिया और फिर २ मिनट के बाद उस ने मुझे चोदना शुरू किया !

“वाह ! क्या मज़ा आ रहा था ! मैं तो जैसे स्वर्ग में थी ! “

मेरे मुंह से आआआ ऊऊऊऊ म्म्म्म्म्म्म्ममअहहहहह की आवाजें निकलने लगीं ! जोश के कारण वो बोलने लगी,”और चोदो, और चोदो, और चोदो ! “

उसने कहा, “ले रांड ! और ले ! खा मेरा लंड ! फिर उस ने मुझे कुतिया बनाया और मुझे खूब चोदा ! फिर तकरीबन एक घंटे बाद वो झड़ने वाला था तो उसने मुझसे कहा,” मैं झड़ने वाला हूँ !”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here