भूल जा सब रिश्ते : माँ की चुदाई

0
नमस्कार साथियो,मैंने अन्तर्वासना पर बहुत कहानियाँ पढ़ी हैं. यह मेरी पहली कहानी है. उम्मीद है कि आपको पसंद आएगी.

नये अनुभव का सुख-1

0
प्रेषिका : अनुष्काएक ही वक्त में दो लड़कियों के साथ मज़े करना चाहते हैं? अरे वाह! क्योंकि मैं ऐसा ही मर्द खोज...

बहन का नग्नतावाद से परिचय-1

0
प्रेषक : आसज़ मित्रो, अभी कुछ दिन पहले मैं ऑफ़िस से छुट्टी लेकर परिवार के साथ दक्षिण भारत की...

ट्रेन में देवरानी-जेठानी की चुदाई

0
प्रेषक : मयंक यह सत्य घटना है चूँकि मैं सेल्स प्रोफेशन से हूँ, कई बार जल्दी में बिना रिजरवेशन...

यहाँ भी चुदी और वहाँ भी-2

0
यशोदा पाठक जिंदगी में पहली बार रात भर इतना मजा किया। सवेरे मैंने अपना बदन खुला-खुला सा महसूस किया।...

एक दूनी दो-2

0
लेखक : जीत शर्मा (प्रेम गुरु द्वारा संपादित एवं संशोधित) मैंने कहीं पढ़ा था अगर कोई अधेड़ स्त्री किसी...

प्रिया की नथ-1

0
शामिल हैं। तो मैं आपको अपने जीवनकाल में आई एक और लड़की की कहानी बताने जा रहा हूँ, उस...

मिल-बाँट कर..-1

0
हाय ! हम झंडाराम और ठंडाराम दोनों सगे भाई हैं। हम दोनों एक साथ मिलकर हर काम किया करते हैं फिर वह...

फ़ोन पर सेक्स की बातें

0
प्रेषिका : स्वातिशायद आप मेरे बारे में यह सब जानना चाहेंगे : मैं स्वाति हूँ, सेक्स की मूर्ति! और मैं आपके लिए...

रिम्पी और उसका परिवार-2

0
प्रेषक : रुबीन ग्रीन फिर उसी दिन शाम के समय फिर से उसकी चूचियों को मसल दिया।