पंखी पता नहीं बताते-1

0
प्रेषक : शकील फ़िरोज़ दोस्तो, मेरा नाम शकील है। मैं एक बार ट्रेन में मुंबई का सफ़र कर रहा...

मिल-बाँट कर..-1

0
हाय ! हम झंडाराम और ठंडाराम दोनों सगे भाई हैं। हम दोनों एक साथ मिलकर हर काम किया करते हैं फिर वह...

फ़ोन पर सेक्स की बातें

0
प्रेषिका : स्वातिशायद आप मेरे बारे में यह सब जानना चाहेंगे : मैं स्वाति हूँ, सेक्स की मूर्ति! और मैं आपके लिए...

रिम्पी और उसका परिवार-2

0
प्रेषक : रुबीन ग्रीन फिर उसी दिन शाम के समय फिर से उसकी चूचियों को मसल दिया।

रिम्पी और उसका परिवार-3

0
प्रेषक : रुबीन ग्रीन आग़ दोनों ओर लगी थी। मैं तो अपनी आग बुझा लेता था पर उसका यह...

ममेरी बहन और उसकी सहेली-1

0
मेरा नाम मेरा नाम शिमत है, दिल्ली का रहने वाला, 21 साल का हूँ। वैसे आजकल मैं हरियाणा के सोनीपत जिले में...

देखने-पढ़ने से मन नहीं भरता अब-2

0
प्रेषक : मुन्ना भाई एम बी ए सुरेश मुस्कराते हुए बोला- वाह… और फिर राधा भाभी सुरेश के होठों...

मेरी सहेली और मेरी चुदाई

0
मीनू मेरी बहुत अच्छी सहेली है, मैं अक्सर उसके घर जाती हूँ।उसका बड़ा भाई है जो मुझे अच्छे से जानता है।

मान भी जाओ बहू -2

0
आपकी कुसुम का चौड़ी टांगों, मदहोश जवानी से अंतर्वासना के पाठकों को एक बार फिर से प्यार एंड नमस्कार ! अपने बारे...

चुद गई रानी

0
दोस्तो, मेरी यह पहली कहानी है जो मैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर भेज रही हूँ। मैं मुम्बई में एक...