लेखक : मुन्ना (मुन्नेराजा)

दोस्तो,

एक लम्बे अंतराल के बाद आपसे फिर मुखातिब हूँ, एक अचरज-कथा प्रस्तुत कर रहा हूँ !

पता नहीं किसी से मेरे बारे में सुनकर मेरे पास एक महिला का फोन आया और उन्होंने मुझसे बोला कि वो किसी जरूरी कार्य से मुझसे मिलना चाहती हैं।

मेरे पूछने पर बोलीं कि फोन पर बताना तो संभव नहीं है, आप यदि मुझे समय दे सकें और अपना पता बता दें तो आपकी मेहरबानी होगी, मैं काफ़ी परेशान हूँ और इसलिये आपसे मिलकर बात करना चाहती हूँ।

फिर मेरे और पूछने पर बताया- मुझे मेरे ही किसी मिलने वाले ने आपसे मिलने को कहा है, जो आपको बहुत अच्छे से जानते हैं …

मैंने बहुत पूछा कि कौन हैं आपके मिलने वाले?

तो जवाब मिला कि गोपनीयता के कारण वो नाम नहीं बताना चाहती …

यह सारा घटना-क्रम दिसम्बर और जनवरी महीने का है।

एक स्त्री के मुँह से मेहरबानी और परेशानी में सहायता की बात से मुझे तकलीफ हुई और मैंने उनको अपने कार्यस्थल का पता देते हुए मिलने का समय बता दिया।

सटीक नियत समय पर एक आकर्षक महिला का मेरे ऑफिस में पदार्पण हुआ, उन्होंने मुझसे पूछा- मुन्ना जी !! ??

मैंने हाँ में गर्दन हिलाई और उनको मेरी मेज़ के विपरीत कुर्सी पर बैठने का संकेत किया।

वो कुर्सी पर विराजमान हुईं और मेरे ऑफिस का मुआयना करती हुई बोलीं कि समस्या मेरी व्यक्तिगत है और मेरे पति से सम्बंधित है।

मैंने मेरी काउंसलर को मेरी कुर्सी पर आने को कहा और चाय वाले को चाय बोलने को कहकर, उनको लेकर ऑफिस के अन्दर के हिस्से में चला गया।

महिला और मैं आमने सामने कुर्सी पर बैठ गए, वो कुछ देर तक मुझे हौले हौले ताकती रहीं जैसे कि तौल रही हों कि कुछ बताएं या नहीं।

फिर बोली- मेरा नाम रेखा है और मैं जयपुर के ही बाहरी इलाके जगतपुरा में रहती हूँ। मेरी शादी आज से दो साल पहले हुई थी। मेरी ननद की शादी हो चुकी है और अब मेरे परिवार में मेरे सास-ससुर हैं और हम हैं, अच्छा घर बार है, पति देखने में अच्छे हैं और परिवार के सभी सदस्य मिल जुल कर रह्ते हैं !

इतना कहकर वो चुप हो गई … तो मैंने बात को आगे चलाने के मकसद से बातचीत शुरु की।

मैंने कहा कि यह सब तो बहुत अच्छी बात है फ़िर आपको दिक्कत कहाँ है ?

इस सबके बाद भी वो मुझे टुकुर टुकुर ताकती रही, उनके मुँह से आगे के बोल नहीं निकल रहे थे …

इस पर मैंने उनको समझाया कि यदि आप कुछ बोलेंगी नहीं तो आपके आने का मकसद भी पूरा नहीं होगा और मैं भी आपकी कोई मदद नहीं कर पाउंगा।

इस पर उनकी नजर नीचे हो गई और एक लम्बी सांस छोड़ते हुए बहुत हलके शब्दों में बोलीं – दिक्कत मुझे मेरी विवाहित जिन्दगी से है …

मेरे मुँह से सिर्फ़ इतना निकला- ओह …

कुछ समय हम दोनों ही चुपचाप बैठे रहे और गनीमत हुई कि उस वक्त चायवाला चाय दे गया तो उन्होंने मुझसे चाय लेने को कहा तो मैंने उनको बताया कि मैं चाय नहीं पीता हूँ, प्लीज आप चाय लीजिये …

चाय पीने के दौरान वो बहुत हद तक सामान्य हो गई थीं और हम दोनों में छोटी मोटी घर बार की इधर उधर की बातें होती रहीं …

चाय खत्म करने के दौरान हम दोनों में उनकी परेशानी वाले विषय पर और कोई बात नहीं हुई।

चाय खत्म करने के बाद एक बार फ़िर वो मेरा मुँह देखने लगी तो मैंने कहा कि आप अपने वैवाहिक जीवन में किसी समस्या के बारे में मुझसे कोई बात करने वाली हैं और यह मानिये रेखा जी कि यदि आप चुप बैठ जायेंगी तो मैं अन्तर्मन की बातें जानने वाला नहीं हूँ कि उसके बाद मैं आपसे सीधे ही आपकी समस्या पर आपसे बात करने लग जाउंगा या कोई समाधान बताने लग जाउंगा … इसलिये प्लीज आप बेहिचक अपनी बात शुरु कीजिये … वैसे तो कहीं ज्यादा अच्छा होता कि आप अपने पति के साथ आतीं तो बात करने में हिचक वाली कोई बात नहीं होती और जहाँ तक मैं समझ पा रहा हूँ आप जिस प्रकार से हिचक रही हैं उससे आपकी समस्या सेक्स से सम्बन्धित कोई परेशानी होनी चहिये, लेकिन असली बात तो आप ही मुझे बतायेंगी …

वो फ़िर नीचे जमीन की तरफ़ देखने लगी और बोलीं कि आप कहते तो सही हैं कि यह बात करनी तो मेरे पति को ही चाहिये थी लेकिन क्या करूं वो तो कहीं आने जाने को तैयार ही नहीं हैं … , शादी के बाद जो लड़की के अरमान होते हैं वो उनमें काफ़ी हद तक तो अच्छा घर बार और परिवार ही होते हैं लेकिन … … फ़िर वो लम्बी सांस छोड़ते हुए चुप हो गई।

इस पर मैंने कहा- आप सही कह रही हैं शादी तो शादी, बिना शादी के भी सेक्स बहुत हद तक सभी जीवों के जीवन में बेहद महत्व रखता है।

तो वो बोलीं कि एकदम ठीक बात कह रहें हैं आप, मेरे पति अच्छे बदन के मालिक हैं लेकिन सेक्स करते समय मुझसे पहले वो … बल्कि यों कहें कि जल्दी ही … …

मेरे मुँह से अनायास ही निकल गया – ओ ओ ओह ह ह्ह …

लेकिन यह बात तो नितान्त ही आपके पति से सम्बन्धित हैं तो मैं आपकी सहायता किस प्रकार से कर सकता हूँ ??

तो वो एक बार फ़िर से मेरे मुँह को ताकते हुए बोलीं- मैं इसी सम्बन्ध में तो आपसे सलाह और सहायता लेने आई हूँ, वैसे तो मैंने मेरे पति को सलाह दी कि वो क्यों नहीं किसी डाक्टर से सलाह लेते हैं तो वो बहुत हिचक के बाद तो माने और बड़े अस्पताल के जाने-माने डाक्टर के पास गये,

उनसे उनकी बहुत विस्तार से बात हुई और मेरे पति ने डाक्टर की सलाह के अनुसार भी दवा लीं और कन्ट्रोल करने की कोशिश की लेकिन इन सबके बाद भी वो एकदम से बेहद उत्तेजित हो जाते हैं और एकदम से खारिज हो जाते हैं, महीने पन्द्रह दिन में एकाध बार को छोड़ दें तो मैं यूं ही रह जाती हूँ … यानि ये मान लें कि दो साल में कोई चालीस पचास बार बस … जबकि मेरी दो सहेलियां हैं उनको तो अकसर होता है कभी कभी को छोड़ कर … , मैंने मेरे पति को निराश नहीं होने को कहा और मेरे कहने से उन्होंने और दो तीन डाक्टर को और दिखाया लेकिन उनकी निराशा बढ़ती ही गई और अब तो हालत और भी खराब हैं … अब तो वो खुद के सेक्स के लिये भी पहल नहीं करते और मैं करती हूँ तो मेरी तरफ़ देखकर कहते हैं कि रानी तुम भी कहाँ मुझ जैसे नामर्द के साथ फ़ंस गई हो … काश मैं तुमको सन्तुष्ट कर पाता … ! वो अब ज्यादा और ज्यादा डिप्रेशन में रहने लगे हैं … जब सहन नहीं होता तो डिप्रेशन की गोली ख़ा लेते हैं … वो मुझसे बहुत प्यार करते हैं …

मैं बोला- एक बार मैं उनसे मिलना चाहूँगा, हो सकता है कि कोई सही रास्ता निकल आये !

तो रेखा जी ने कहा- मेरे खयाल से वो आज के हालात को देखते हुये मुश्किल से ही तैयार हों, लेकिन मैं कोशिश ही कर सकती हूँ।

मैंने जवाब दिया कि बिना किसी प्रयास के हताश होने से कभी भी मन्जिल नहीं मिलती है, हमें हिम्मत नहीं हारनी चाहिये।

रेखा जी- तो मैं आपके पास अब कब आऊं?

मैं- कल आ जाइये !

रेखा जी- ठीक है, मैं कल घर से निकलते समय आपको काल कर दूंगी।

अगले दिन रेखा जी अपने पति के साथ नियत समय पर हाजिर हुईं । मैंने मन ही मन सोचा कि ये बन्दी हैं तो समय की एकदम से पक्की।

फ़िर मैंने अपनी काउंसलर को चाय वाले को आवाज देने को कह कर आफ़िस के अन्दर के हिस्से में रेखा जी और उनके पति को लेकर आ गया।

रेखा जी ने अपने पति से मेरा परिचय करवाया, हमने एक दूसरे का अभिवादन किया और बिना समय व्यर्थ किये चर्चा चालू की और जैसा कि रेखा जी ने अपने पति के लिये कहा था, मेरे हर सम्भव समझाने पर भी वो बन्दा कुछ भी मानने के लिये तैयार नहीं हुआ एक दम से हताश और इतना निराश व्यक्ति मैं पहली बार देख रहा था।

उस बन्दे ने साफ़ साफ़ कहा- रेखा चाहे मुझे सेक्स करने दे या नहीं … बस ये मेरे साथ रहे इतना ही बहुत है ! मैं इसके बिना जी नहीं सकता और ये अपनी यौन-संतुष्टि के लिये जिसे भी चुन ले मुझे कोई एतराज नहीं होगा, बस ये खुश रहे, मुझ में जो कुछ कमी है उसके लिये मैं हर सम्भव कोशिश कर चुका मुन्ना जी, अब तो जब कुछ प्रयास करने की सोचता हूँ तो जैसे मैं अपने पर अत्याचार कर रहा हूँ। हर सम्भव प्रयास के बाद भी असफ़लता से मैं … खुद और ज्यादा खराब हो जाता हूँ … मुझे जिस भी किसी ने आपके बारे में बताया था, आपके लिये कहा था कि आप से मैं बेखौफ़ बात कर सकता हूँ … । इसलिये आया आपके पास … मैं जानता हूँ कि मैं … मुझ में क्या कमी है … , और मैं ये भी जानता हूँ कि सेक्स का जीवन में क्या महत्व है। इसलिये मुझे कतई एतराज नहीं है यदि रेखा किसी को अपना सेक्स साथी चुन ले … , लेकिन मैं हर किसी के साथ तो बरदाश्त नहीं करूंगा … , मैं नहीं चाहता कि ये एक सेक्स की भूखी लड़की के रूप में कुख्यात हो जाये … , ये सोच समझ कर फ़ैसला करे …

अब मैं एक बेहद ही समझ्दार और खुले दिल वाले आदमी के सामने अपने आप को पा रहा था।

चाय पी कर रुख्सत होने के बाद मैंने अपना दिमाग घूमते हुए पाया … , मैं अपना सिर पकड़ कर बैठ गया और सोचने लगा कि रेखा जी किस परिस्थिति से निकल रही हैं और वो बेचारा उनका पति … उफ़्फ़् … हे भगवान् … …

करीब एक घन्टे बाद रेखा जी का फ़ोन आया और उन्होंने मुझसे माफ़ी मांगते हुए एक बार फ़िर से अकेले मिलना चाहा, अब मैं अवाक रह गया कि रेखा जी अब मुझसे क्यों मिलना चाह्ती हैं … अब बाकी क्या है … ?

लेकिन उत्सुकता के मारे अब मैंने उनको तुरन्त मिलने का समय दे दिया …

और फ़िर एक बार वही सही समय पर वो हाजिर थीं।

अब बातचीत में कोई लाग लपेट की गुंजाईश नहीं थी। सीधे बात चीत शुरू हुई और मैंने लगभग हथियार डाल दिये और कहा कि आपके पति मुझे बहुत समझदार तो लगे लेकिन वो बहुत डिप्रेशन में हैं और वो खुद जब किसी इलाज के लिये राजी नहीं हैं तो अब क्या किया जा सकता है …

रेखा जी बोलीं- किया तो अब भी बहुत कुछ जा सकता है मुन्ना जी …

मैं हैरान होकर उनके मुँह की तरफ़ ताकने लगा, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि रेखा जी की बात का क्या मतलब है?

रेखा जी बोलीं- प्लीज मुन्ना ज़ी आप मुझे एक तो रेखा जी कहने के स्थान पर रेखा ही बोल देंगे तो मुझे अच्छा लगेगा, … … फ़िर वो एकदम से चुप होकर नीचे देखने लगी

तो मैंने कहा – हाँ और दूसरी बात ?

फ़िर वो उसी तरह से बैठी रही तो मैंनें कहा कि रेखा जी … मेरा मतलब रेखा … यों अगर चुप रहोगी तो इस समस्या का कोई हल नहीं निकलने वाला … और आपको अब तक तो मुझसे हिचक निकल जानी चाहिये … आपको यदि अब तक भी मुझ पर विश्वास नहीं आया हो तो मेरी ही कमजोरी माननी होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here