अफसोस! मैं राजेश जिंदल हूँ, आज मैं आपको अपने जीवन की पहली सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ। मैं गुड़गांव में रहता हूँ।

यह वही समय है जब हमारे पड़ोस में एक नई लड़की अपने मामा के साथ रहने आई थी। उसका नाम मोनिका था। वह बिहार की रहने वाली थी, उसका रंग गहरा था लेकिन उसके स्तन सेब की तरह कड़े थे। उसके कूल्हे मस्त थे, जब वो चलती थी, तो उसके कूल्हों को चाटते देख कर गली के लड़कों का लंड बेताब हो जाता था।

वह कभी-कभी हमारे घर टीवी पर फिल्में देखने आती थी। जब वह यहां आती थी, तो मेरी नजर केवल उसके कूल्हों पर थी। उसके स्तन उसकी चोली को फाड़ने के लिए बेबस नजर आ रहे थे। एक दिन हमारे घर के सभी लोग एक शादी में गए थे। मोनिका का परिवार बिहार गया हुआ था। जाने से पहले मोनिका ने रात को सोने के लिए हमारे घर बात की थी।

उस दिन जब वह हमारे पास आई तो मैं अपने घर में एक अंग्रेजी फिल्म देख रहा था, वह चुपचाप आई और मेरे पीछे खड़ी हो गई, मैंने उसे नहीं देखा, फिल्म में चुदाई का दृश्य आ रहा था, लड़का अपना लंड अन्दर दे रहा था लड़की की गांड। मज़ा खराब हो रहा था, मैं भी अपने मोटे लंड को हाथों में लेकर बैठी थी, मेरा अल्दा टाइट हो रहा था।
जब शीशे की आवाज़ मेरे पीछे रखी तो मैंने पलट कर देखा कि मोनिका मेरे पीछे फिल्म देख रही है, उसकी आँखें लाल हो रही थीं। मैंने जल्दी से पास के तौलिये को उठाया और अपने अलोरे पर रख दिया।

वह भी संकोच कर रहा था, मैंने उससे पूछा मेरे साथ बैठने के लिए है, तो वह आया और बैठ गया, मैंने उससे पूछा कि जब आप आए, वह शरमा और कहा कि जब हीरो हेरोइन चुंबन किया गया था। मैं समझ गया कि उसने पूरी चुदाई देखी है, मैंने उसके हाथ को छुआ, वह कांप रही थी, उसने मेरा हाथ पकड़ने का विरोध नहीं किया, मैं समझ गया कि आज ज़िंदगी का मज़ा लिया जा सकता है।
मैंने उनसे पूछा कि आज हमें यहाँ क्या रोका जाएगा, क्योंकि आज हमारे यहाँ कोई नहीं है, मैं जानना चाहता था कि उनके मन में क्या है।
तो उसने कहा कि मुझे अकेले में डर लग रहा है, मैं खुश थी कि मेरा अल्दा चोदने के लिए बेताब था, उसने लाल गहरी लाल चोली पहनी हुई थी, उसके स्तन ऊपर से बाहर झाँक रहे थे, वो बहुत सेक्सी लग रही थी।

मैंने उसे खाने के लिए मिठाई दी, रात बहुत हो गई थी, मैंने टीवी चैनल नहीं बदला था, थोड़ी देर के बाद, फिर चुदाई का दृश्य आया, फिर मैंने उसे देखना शुरू किया, उसकी आँखें सेक्स से भरी हुई थीं, जैसे ही हीरो जब मैंने अलोडा निकाला, तो उसके मुँह में बहुत गुस्सा था, मेरा अल्दा भी कड़ा हो रहा था, मैंने उसके कंधों पर हाथ रखा, तो वह मेरे बहुत करीब आ गई,
मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने धीरे से अपना हाथ उसके कडक बूब्स के उपर ले गया और उन्हें सहलाने लगा, उसके मुह से मीठी 2 आवाजें आने लगी।

मैंने उसकी चोली को धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करना शुरू कर दिया और उसने ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी। वो गरम हो रही थी।
उसने कहा कि मुझे डर है, मुझे तिल क्यों पता था, तो उसने कहा कि मैंने आज तक सेक्स नहीं किया है।
मैंने सोचा कि मुझे बना रहा है, मैंने कहा कि डरो मत, मैं सिखाऊंगा।

जब मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो मैंने देखा कि उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया है। मैं धीरे-धीरे उसकी चूत को सहलाने लगा।
उसने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया, मैंने उसकी कमीज़ उतार दी और वो शरमा गई।
फिर मैंने उससे कहा कि अब वो मेरी शर्ट उतार दे।
जब वो शर्मा गई तो मैंने अपना लंड आज़ाद कर दिया।

वो मेरे लंड को प्यासी देखने लगी और बोली कि यह बहुत मोटा है, मेरी चूत फट जाएगी।
मैंने कहा- रानी आपको जवानी का मज़ा देगी।
उसने कहा कि अब मुझे क्या करना चाहिए?
तो मैंने कहा कि इसे जिस तरह से हीरोइन कर रही है वैसा करो।

उसने मेरा लंड अपने हाथों में ले लिया और हिलाने लगी, फिर धीरे-धीरे अलोरे को अपने मुँह में लेने लगी। मेरा लंड इतना मोटा था कि उसके मुँह में नहीं आ रहा था, वो उसे चाटने लगी। मेरा लंड २ बार हिल रहा था। उसे लंड चाटने में मजा आ रहा था।
वह बोली कि कमल इतना मस्त दिखता है कि दिल उसे खाने की कोशिश कर रहा है!
मैंने कहा कि अगर तुम इसे खाओगी तो मैं तुम्हें कैसे चोदूंगा?

फिर धीरे से उसने लंड का सर अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी। अब मैं उसकी चूत में अपनी उंगली डालने के लिए उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा। उसकी चूत पर दो छोटे बाल थे, उसकी चूत बहुत उभरी हुई थी लेकिन मेरी उंगली उस चूत में नहीं उठी थी, तो मैं समझ गया कि वो एकदम नई है, मैं बहुत खुश था कि आज मुझे कुंवारी चूत की सील तोड़ने का मौका मिला ।

मैंने उसे अपनी बाहों में उठा लिया और उसे बेडरूम में ले गया और उसे बड़े प्यार से बिस्तर पर लिटा दिया, अब हम दोनों पूरी तरह से नंगे थे। उसके कूल्हे वास्तव में अधिक गोल और कसे हुए थे जो बाहर से दिखते थे।

मैंने उसे अपनी टांगें चौड़ी करने को कहा, उसने वैसा ही किया, अब मेरी अल्दा उसकी सील तोड़ने के लिए उतावली हो रही थी।

मैंने अपना लंड धक्का दिया, कुंवारी चूत से लड़ा तो वो मस्ती से हिल गई। मैं एक शॉट लगाने के लिए तैयार था, मैंने अपना अलोर उसकी चूत में थोड़ा सा डाला और फिर वो चिल्ला उठी कि मेरी चूत फट जाएगी।
फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उस पर क्रीम लगाई, अब अलोदा ने उसकी चूत में डालना शुरू कर दिया। वह दर्द से कराह उठी, उसने अपने कूल्हों को हिलाना शुरू कर दिया।
तो मैंने कहा कि एक बार ज़िन्दगी थोड़ी दर्द होगी, फिर तुम ज़िंदगी भर लंड का मज़ा ले सकते हो।
उसने कहा कि आज मैं अपना मज़ा लूंगी।
उसने मुझे अपनी बाँहों में पकड़ लिया।

मेरा अल्दा 8 इंच का है, मैंने धीरे-धीरे चूत में 2 अल्दा डालना शुरू किया, 2 धक्के मारने के बाद लंड का सर उसकी ठंडी चूत में घुस गया, वो दर्द से तड़प रही थी। मैं ऐसे ही 2 मिनट तक लेटा रहा, उसने जैसे ही अपनी चूत को ढीला किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here