प्रेषक : अजय कुमार

दोस्तो, मेरा नाम अजय है मैं 29 वर्ष का हूँ, मैं भी आपकी तरह इस साईट का दीवाना हूँ और जब भी मुझे मौका मिलता है तो यहाँ कहानियाँ पढ़ता हूँ..

आज मैं आपसे हाल ही में घटित घटना के बारे में बताता हूँ।

मैं मुंबई में केंद्र सरकार के प्रतिष्ठित विभाग में एक अफसर हूँ। वैसे मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। नव वर्ष पर मैं जयपुर गया हुआ था, वापस आते समय मेरा आरक्षण जयपुर-मुंबई सुपरफास्ट के दूसरे दर्ज़े के वातानुकूलित कोच में था। मेरे कम्पार्टमेंट में मेरे अलावा एक तक़रीबन ३५ वर्षीय औरत और उसके दो बच्चे थे। हमारे अलावा उस कम्पार्टमेंट में उस औरत की छोटी बहन भी थी जिसका नाम अनु था। अनु की टिकट कन्फर्म नहीं हुई थी इसलिए वो भी वहीं बैठी थी।

जयपुर से ट्रेन दो बजे के आसपास रवाना हो हुई। शुरू में तो उन लोगों से मेरी कोई ज्यादा बातचीत नहीं हुई परन्तु धीरे धीरे उस औरत के छोटे लड़के से मेरी दोस्ती हो गई क्यूंकि मेरे पास लैपटॉप था और वो मैंने गेम खेलने के लिए उस लड़के को दे दिया था।

मैं अनु और वो लड़का एक ही बर्थ पैर बैठे थे। मैं दोनों के बीच में था और मैंने लैपटॉप को भी सीट पर रख लिया था इस वजह से मैं अनु से काफी सट गया था। कभी कभी अनु के शरीर से मेरा शरीर छू जाता तो शरीर में सिहरन पैदा हो जाती थी। अनु भी अपनी बड़ी बहन के सामने शरमा रही थी। फिर थोड़ी बहुत बातें करते करते कोटा आ गया। कोटा से एक और लड़की हमारे कम्पार्टमेंट में आ गई। मेरी और उस नई लड़की की सीट ऊपर वाली थी जबकि औरत और उसके दोनों बच्चों की नीचे वाली बर्थ थी।

रात को खाना खाने के बाद हम लोग अपनी अपनी बर्थ पर लेट गए। हमने सभी लाइट ऑफ करके पर्दा लगा दिया था । कोटा वाली लड़की अपनी ऊपर वाली बर्थ पर चढ़कर जल्द ही सो गई। मेरे नीचे वाली बर्थ पर वो औरत और उसका छोटा लड़का सो गए और उसके सामने वाली नीचे की बर्थ पर अनु और उस औरत का दूसरा लड़का एक साथ सो गए।

अनु ने लाल रंग की टी-शर्ट पहन रखी थी। अनु का फिगर बहुत मस्त था। उसका वक्षाकार तो 36 का ही होगा। ऐसे गर्म माल के होते हुए नींद मेरे आसपास भी न थी। मैं तो बस ऊपर वाली बर्थ से अँधेरे में अनु को ही निहार रहा था। अनु भी बार बार करवट बदल रही थी क्यूंकि वो दो लोग एक सीट पर ठीक से लेट नहीं पा रहे थे। थोड़ी देर में सभी सो गए सिर्फ मैं और अनु ही जगे हुए थे। हालाँकि अनु चादर ओढ़ कर लेटी हुई थी उसका मुँह गैलरी की तरफ था और पैर खिड़की की तरफ।

रात के करीब 12 बज चुके थे, डिब्बे में पूरा अँधेरा था, कभी कोई स्टेशन आता तो रोशनी हो जाती। मेरी आँखों में नींद दूर तक नहीं थी, मैं तो बस अनु के ख्यालों में ही खोया हुआ था।

फिर रात में मैं टॉयलेट जाने के लिए धीरे से नीचे उतरा तो मेरे दिमाग में एक आईडिया आया। मैंने लाइट नहीं जलाई और जूते ढूंढने के बहाने अनु की सीट पर बैठ गया और धीरे से अपनी कोहनी अनु को छुआ दी। हालाँकि वो जाग रही थी पर वो कुछ नहीं बोली। इससे मेरा होंसला और बढ़ गया। फिर मैंने अपना हाथ अनु के बड़े बड़े स्तनों पर रख दिया। अचानक मेरे इतने दुःसाहस से वो हड़बड़ा गई जैसे उसे 440 वोल्ट का झटका लगा हो। उससे उसकी बहन भी जाग गई।

मैंने अपने जूते पहने और टॉयलेट की तरफ चल दिया। जब वापिस आया तो सब कुछ शांत हो गया था.. पहले तो मुझे लगा था कि आज तो पिटाई होगी परन्तु अनु मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी। हम फिर लाइट बन्द करके लेट गए।

करीब तीन बजे अनु चुपके से टॉयलेट के लिए उठी। उसके जाते ही मैं भी पलक झपकते ही बर्थ से नीचे उतर गया। फिर मैंने देखा कि सब मस्त होकर नींद में लेटे हुए थे। मैं फटाफट टॉयलेट के गेट पर जाकर खड़ा हो गया। जैसे ही उसने दरवाजा खोला मैंने उसे अंदर लेकर लॉक कर लिया।

वो बोली- यह क्या कर रहे हो?

मैंने कहा- डार्लिंग, तुम इतनी गर्म हो कि मैं खुद को रोक नहीं पाया..

वो बोली- अगर कोई जाग गया तो?

मैंने कहा- मैं अच्छे से चेक करके आया हूँ, डरने की कोई बात नहीं है, सब सो रहे हैं।

इसके साथ ही मैंने उसे चूमना शुरू कर दिया। पहले तो थोड़ी देर वो हिचकिचाई, फिर वो भी अच्छा साथ देने लगी..

मैंने उसकी टी-शर्ट को ऊपर किया तो नीचे गुलाबी रंग की ब्रा में कसे हुए कबूतर दीखे..

मैं पागलों की तरह उन पर टूट पड़ा।

वो बोली- थोड़ा धीरे करो..

फिर मैंने उसे सारे कपड़े उतारने को कहा..

उसने अपने कपड़े उतार दिए..

मैं भी एकदम नंगा हो गया था, मेरा लंड 90 डिग्री पर खड़ा होकर झटके मार रहा था.. वो उसकी प्यारी सी क्लीन शेव चूत में घुसने को बेसब्र हो रहा था..

मेरे हथियार को देखते ही अनु बोली- हाय राम ! तुम्हारा इतना बड़ा है ..

मैंने पूछा- तुमने पहले भी देखा है क्या?

तो उसने कहा- हाँ, मेरे स्कूल में मेरा एक बॉयफ़्रेंड है, उसी का देखा है….और 4-5 बार उसके साथ सेक्स भी कर चुकी हूँ.. पर उसका हथियार तो तुमसे बहुत छोटा है..

मैंने कहा- डार्लिंग, डरने की बात नहीं है, इससे तुम्हें बहुत मज़ा आएगा..

वो बोली- मेरा तो इसे चूमने का मन कर रहा है..

मैंने कहा- नेकी और पूछ पूछ ..

और उसके मुँह में अपना आधा लंड घुसा दिया..

अनु मेरे लंड को लॉलीपोप की तरह चूसने लगी। अनु ने इतने शानदार तरीके से चूसा कि मैं आपको वो आनन्द बयान नहीं कर सकता..

करीब 6-7 मिनट के बाद मैंने अनु का सर पकड़ कर उसकी स्पीड बढ़ा दी। अब मेरा हथियार अनु के गले तक जा रहा था। अनु की आँखे बाहर आने को तैयार हो गई।

फिर मैंने उसे कहा- मेरा वीर्य छूटने वाला है..

उसने मुझे इशारा किया- कोई बात नहीं..

इतने में ही एक ज़ोरदार पिचकारी के साथ बहुत सारा वीर्य झटके से अनु के मुँह पर गिरा। आज तक मेरा कभी इतना वीर्य नहीं आया होगा जितना उस दिन आया..

फिर अनु ने अपनी पेंटी अपना चेहरा और हाथ साफ़ किये ..

अब मेरी बारी थी ..

मैं टॉयलेट सीट का ढक्कन लगा कर उस पर बैठ गया, अनु को मैंने अपनी गोद में बैठा लिया। फिर उसके मोमे भूखे भेड़िये की तरह चूसने लगा.. उसके गुलाबी गुलाबी चुचूक चूसने में मुझे स्वर्ग का सा सुख प्राप्त हो रहा था। उसके बाद धीरे धीरे चूमता हुआ मैं नीचे की तरफ बढ़ने लगा..

अब उसकी धड़कने बढ़ती जा रही थी, चेहरा खून के प्रवाह से एक दम लाल सुर्ख हो गया था..

मैंने अपने होंठ उसके क्लीनशेव संतरे की फांक जैसी सुर्ख लाल चूत पर टिका दिए और उन्हें चूसने लगा..

उसकी चूत फूल कर पाव रोटी की तरह हो गई थी और वो मचल-मचल कर बाँहों से छूट रही थी। फिर वो बोली- अब नहीं रहा जा रहा .. फटाफट अपना हथियार इसमें डालो !

तब तक मेरा नवाब भी वापिस तैयार हो गया था, मैंने झट से उसे अपने लंड पर बिठाया। एक बार तो वो दर्द के मारे चीख पड़ी लेकिन थोड़ी देर में ही उसे मज़ा आने लगा। 3-4 मिनट में ही वो झड़ गई। फिर मेरे शरीर से कस कर चिपक गई, मैं उसकी स्थिति देख कर थोड़ी देर रुक गया। 1-2 मिनट के बाद फिर से धक्के मारने शुरू किये। मैंने अपनी गति पूरी तेज़ कर दी, वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। थोड़ी देर बाद मैंने उसे खड़ा किया और उसे घोड़ी बनने को कहा।

फिर मैंने उसकी कमर को पकड़ कर कस कस के झटके देने शुरू कर दिये..

चलती गाड़ी में बहुत मज़ा आ रहा था। वो भी आनंद से जोर से आवाज़ निकल रही थी। मुझे यह भी डर था कि कहीं कोई आ न जाये। काफी देर बाद हम दोनों एक-साथ भरभराकर कर गिर गए। मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में ही डाल दिया।

अनु बोली- अब क्या होगा ? कहीं प्रेग्नंट तो नहीं हो जाउंगी?

फिर बोली- चलो आई पिल ले लूंगी..

मैंने कहा- हाँ, यह ठीक रहेगा !

फिर हम काफी देर तक एक दूसरे की गर्दन में बाहें डालकर चिपककर बैठे रहे। तब तक 5 बज चुके थे..

इतने में किसी ने हमारे टॉयलेट का दरवाज़ा खटखटाया..

अनु एकदम डर गई..

मैंने उसे शांत रहने का इशारा किया, फिर मैंने फ्लश चला दिया ताकि बाहर वाले को लगे कि अंदर कोई है..

फिर काफी देर तक बाहर कोई हलचल नहीं हुई तो लगा कि वो चला गया।

फिर हमने फटाफट कपडे पहने। अनु से मैंने उसकी पैंटी ले ली और कहा- इसे मैं ही रखूंगा, यह तुम्हारी मेरे पास निशानी के तौर पर रहेगी ..

उसने उसके लिए हाँ कर दी..

तब तक बाहर लोग आने लग गए थे। मैंने अनु को कहा- पहले तुम जाओ, मैं थोड़ी देर में आता हूँ..

किसी तरह अनु को बाहर निकाला और मैं अंदर ही रहा। अब मेरा दिल भी धक-धक कर रहा था कि कहीं किसी को पता न चल जाये। लगभग दस मिनट के बाद मैं बाहर आया, आकर अपने कम्पार्टमेंट में देखा तो सब सोये हुए थे। उन्हें सोता देख कर मेरी जान में जान आई। फिर मैं भी सो गया। मेरी नींद साढ़े सात बज़े खुली, तब तक बोरीवली स्टेशन आने वाला था।

मैंने नीचे देखा तो सब अपना सामान पैक कर रहे हैं। अनु मुझ से नज़र नहीं मिला रही थी शायद उसे लग रहा था कि किसी को पता न चल जाये..

बोरीवली स्टेशन पर उतरने के बाद वो लोग ऑटो में चले गए, मैं उन्हें जाता देखता रहा पर अफ़सोस अनु से मैं उसका फोन नंबर नहीं ले पाया..

मैंने अपनी कहानी इसलिए लिखी है कि शायद अनु इसे पढ़े और मुझसे सम्पर्क करे। उसकी पैंटी अभी भी मेरे पास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here