अचानक हवा के जोरदार झोंके से सामने का दरवाजा खुल गया। कमरे में धूप का प्रकाश छा गया। दोनों का ध्यान अंतरात्मा से निकल कर यथार्थ पर जा पहुँचा। उनका मुँह दरवाजे की ओर था। उन्हें ग्लानि भावना ने डस लिया, कहीं कोई बाहर से देख न ले।

अक्षत कन्या संवेदना की देवी होती है, रति छटपटाई, छूटने का प्रयास किया, घबराकर बोली- दरवाजा खुला है! कोई देख लेगा!

रति की छटपटाहट ने रोहित की सम्भोग ज्वाला पर घी का काम किया। उसकी बाँहों में और कसक आ गई। पुरुष को साहसी उद्यमों से वासना का नशा सा हो जाता है। यह सोच कर कि उन्हें यूँ चिपकते कोई देख भी सकता है, रोहित के शरीर से रोमांच की धारा बहने लगी। जितना रति छूटने का प्रयास करती, उतना रोहित उसके शरीर का मर्दन करता।
मानो किसी बालिका को बहला रहा हो, वह बोला- कोई नहीं आयेगा!

रति घबराहट भरी आँखों से खुले दरवाजे के पर ताके जा रही थी। सामने गार्डन में पेड़ों का झुरमुट था। कोई प्रांगण में आये भी तो वह वृक्ष-शृंखला पारदर्शी पर्दे का कार्य करती थी। रोहित ने उसकी घबराहट जान कर उसे अपनी ओर घुमा लिया और कहा- इस तरफ मुँह कर ले, कोई आया तो मैं देख रहा हूँ।

रति ने शतुरमुर्ग की तरह अपना चेहरा रोहित के सीने में छुपा लिया। पुरुष वक्ष से लग कर उसे मदमोहक गंध का आभास हुआ। वह अभी भी घबरा रही थी लेकिन छटपटाहट मंद हो गई। बलिष्ठ पुरुष के सीने से लग कर उसे एक सहारे का बोध हो रहा था। खुले दरवाजे में एक तरह से वह ज्यादा सुरक्षित थी। सोच रही थी, जब तक दरवाजा खुला है, शायद मामाजी एक हद से आगे उसका मर्दन नहीं करेंगे।

रोहित ने पीठ पर हाथ फेरते हुए धीमे से पूछा- तूने ऊपर चोली तो नहीं पहनी, लेकिन नीचे मिनी-लहंगे के अंदर कुछ पहना भी है या नहीं?
यह प्रश्न सुन कर रति की लज्जा बढ़ गई।
कुछ देर चुप्पी के बाद वह बोली- जी मामाजी, पेंटी पहनी है।

अब तक रोहित का एक हाथ नीचे सरक कर रति की गांड तक पहुँच गया। उस हाथ से बचने के लिए रति ने नितंब सामने को लचकाए। रोहित का वज्र उसकी नाभि के नीचे वर्जित क्षेत्र में जा टकराया। रोहित का दूसरा हाथ उसकी संकरी कमर में कसा हुआ था। रति ऐसे चिपकी हुई थी, जैसे जंगली लता किसी बड़े वृक्ष पर लिपटी हो।

रोहित ने रति के माथे पर पुचकारते हुए, उसका स्कर्ट थोड़ा ऊपर को खिसका दिया। रोहित का हाथ अब उसकी पिछली जांघों पर था। किसी पुरुष का नग्न-जांघों में पहला-स्पर्श पा कर रति के रोमांच एवं भय का पारा एक साथ चरम बिंदु तक जा पहुंचा। वह आगे बढ़ने के लिए मना करना चाहती थी, लेकिन भावावेश में उसकी आवाज ही गुम हो गई। उसका जबड़ा खुला, लेकिन आवाज न निकल सकी। अब तक रोहित के पंजे और ऊपर को खिसक आये, वह और विवश हो गई।

रोहित आश्चर्य-चकित हुआ, उसे चड्डी की अपेक्षा थी, लेकिन उसके हाथों ने नग्न त्वचा का स्पर्श किया।

‘नीचे तो तूने कुछ नहीं पहना है, तेरी पेंटी कहाँ है?’ तनिक गुस्सैली आवाज में उसने पूछा।

रुआंसी आवाज में रति ने उत्तर दिया- जी मामाजी, मैंने जी-स्ट्रिंग पेंटी पहन रखी है।

रोहित को अपने सामान्य ज्ञान पर संदेह हुआ कि भला यह जी-स्ट्रिंग कहाँ की बला है। उसने अपना हाथ दोनों चूतड़ों पर फिरा कर जान लिया कि रति ने पेंटी पहनी जरूर है, लेकिन इसका पीछे वाला भाग केवल एक स्ट्रैप मात्र है जो उसकी गांड-दरार में जा घुसा था।
अब दूसरा हाथ भी नीचे सरका कर, रोहित ने दोनों नग्न ग्लोब दबोच लिए। उनका मर्दन करते हुए पूछा- ये सेक्सी चीज तुझे मिली कहाँ से?

सीने पर सिर झुकाये, पीछे से झटके सहते हुए वह बोली- जी, मेरी एक सहेली ने बर्थडे गिफ्ट दी है।

‘तूने कभी सोचा, बाहर इतनी हवा चल रही है, तेरी स्कर्ट उड़ेगी तो सब तेरे नंगे चूतड़ देखेंगे। तुझे अपना नंगा-नंगा दिखने में मजा आता है क्या?’ उनकी आवाज में थोड़ा गुस्सा था।

रोते हुए रति ने कहा- मैं कपड़े बदल लूंगी, मामाजी, प्लीज़ बस मम्मी को मत बताना।’
रति को अपने आप पर गुस्सा आ रहा था कि उसने पहले क्यों नहीं सोचा कि आज तेज हवा है।

रति को सताते में रोहित को मजा आ रहा था, तनिक प्यार से पूछा- कैसे रंग की है तेरी पेंटी?
‘जी लाल रंग की, मामाजी।’
‘तुझे मालूम है कि लाल रंग कितना भड़काऊ होता है? कोलेज में लड़के देखेंगे तो तेरे पीछे सांड की तरह पागल हो जायेंगे।’ रोहित की आवाज में समझाने वाला प्यार छुपा था।

रति की हिम्मत बढ़ी- जी मामाजी, लेकिन वो तो स्कर्ट से ढकी रहेगी न?

मामा ने चूतड़ पर एक प्यार भरी चपत लगाई, उसके लहजे की नक़ल करते हुए बोला- लेकिन इतनी हवा में तेरी मिनी-स्कर्ट बार-बार उड़ेगी न!
रति को अपनी गलती का अहसास हुआ, वह चुप रही।

रोहित ने अब एक हाथ सामने ला कर रति की ठोड़ी पकड़ी, मानो किसी बालिका को डांटना चाहता हो। रति ने निरीह आँखों से मामा की ओर देखा। उसके अबोध चेहरे को देख रोहित का रोमांच बढ़ गया। उसने अपने होंठ रति के रसीले गुलाबी अधरों पर धर दिए।

चकित आँखों से मामा कि काम-उत्तेजित आँखों में झांकते हुए रति फिर भय व आश्चर्य के मिले जुले भावों से भर गई। उसके अक्षत अधरों में कोई हलचल नहीं हुई। रोहित ने भी कोई हलचल नहीं करी, बस बहुत देर तक होंठ से होंठ मिलाये रखे।
कुछ क्षणों बाद रति की चेतना लौटी। उसने छटपटाकर मामा से अलग होने का प्रयास किया।
रोहित ने अधरपान रोक कर रति की आँखों में झाँखा। उसकी आँखों में अज्ञात भय था और प्रश्न भी। प्रश्न ऐसा, जैसे कोई छात्रा अपने गुरु जी से नए आयाम के बारे में कुछ जानना चाहती हो। फिर उसकी आंखें स्वतः लज्जा से झुक गई।

रति को सँभलते देख, रोहित ने अपने होंठ फिर उसके अधरों से लगा दिए। अब उसका सिर पीछे से दबोच लिया।
रति ने आंखे झुकाये-झुकाये छटपटाकर छुटना चाहा, लेकिन रोहित की मजबूत पकड़ के चलते वह विवश रही।
इस बार रोहित ने अपने होंठों में हल्का सा कंपन किया।
अपने अछूती पंखुड़ियों पर पहली बार पुरुष-अधर चुम्बन पा कर, रति के सारे शारीर में सम्भोगाग्नि छा गई। वह सुध-बुध खोकर अपने मामा के आलिंगन-चुम्बन में अमृत-तुल्य सुख का आस्वादन करने लगी।

रोहित फिर अलग हुआ। वह लगातार रति के भावो को पढ़ रहा था। रति की अर्ध-मुंदी आंखें खुली। उसने मामा को प्रश्न व कामोत्तेजना की चमक से निहारा। मानो पूछना चाह रही थी कि क्या उसकी जन्मों की प्यास यूँ ही अधूरी रह जायेगी।

कामाग्नि से दमकते चेहरे पर छाए भोलेपन को देख, रोहित की पुरुष-वासना फिर भड़की। उसके लंड में एक लचक आई, जिसे रति ने अपनी योनि पर महसूस किया। रति का चहरा सुर्ख लाल हो रहा था। रोहित ने अपने हाथ उसके गालों पर रखे तो वो ऐसे गर्म थे मानो बुखार छा गया हो। गालों पर खुदरेले पंजों का प्रथम-स्पर्श पाकर रति फिर से तड़फने लगी।

तेजी से अपना मुँह सामने लाकर रोहित ने अपने होंठों से रति के दोनों होंठ ऐसे मर्दन करने शुरू कर दिए जैसे कोई भूखा बालक रसीले संतरे की फांकें चूस रहा हो।

इस बार रति के शरीर से गुजरे करेंट का झटका उसके योनि-द्वार तक पहुँचा। ऐसा अनुभव रति को पहले कभी नहीं हुआ था। जब रोहित ने उसके चूतड़ों को अपने हाथ से दबाया, तो इस बार रति को लगा कि उसकी मुनिया, मामाजी के मुन्नेराम से टकराने के लिए लालायित हो रही है। एडियो के बल वह थोड़ा उचक गई। रोहित का खड़ा टट्टू सीधे रति की अछूती मुनिया पर जा टकराया।

अब दोनों को खूब मजा आ रहा था, मानो स्वर्ग का आनन्द भूलोक पर आ पहुंचा हो। इन क्षणों में उन्हें यह भी परवाह नहीं थी कि सामने का दरवाजा निर्लज्ज खुला हुआ है। बल्कि यह अहसास कि कोई उस लता-वृक्ष रूपी आलिंगन को छुप कर देख रहा होगा, उनकी वासना को और भड़का रहा था।

रोहित ने अपनी जीभ होंठों की लक्ष्मण-रेखा पार करके आगे बढ़ाई तो किसी अनुभव-हीन बालिका की तरह, रति ने अपने दांत भीच लिए। रोहित ने तनिक जोर लगाया कि वह उसकी दन्त-शृंखला पार कर सके, लेकिन उसने दांत भींचे रखे।

रोहित ने अचानक रति कि गुदगुदी गांड पर तीन-चार चपत मारे। इस अकस्मात प्रहार से घबराकर उसकी जंगली चीख निकली- उईई!

फुसफुसा कर रोहित ने कहा- अपने दांत खोल, दांत ढीले कर!

रति ने ज्यों ही जबड़ा ढीला किया, रोहित के चपत बंद हो गए। रोहित की जीभ अब बिल में घुस कर अपना शिकार ढूंढ रही थी। रति बचने के लिए अपनी जिह्वा पीछे किये जा रही थी। लेकिन वह भला कहाँ तक बचती। अंततः मिलन हो ही गया।

अब रति के सामने समर्पण के सिवा और कोई रास्ता नहीं रह गया। मामा उसकी जिह्वा से खेलते रहे, वह एक मोम की गुड़िया की तरह पिघलती रही। उसके सारे काम-अंगों से अमृत-रस की धारा बह-बह कर एक बिंदु में केंद्रित होने लगी। उसे लगा जैसे उसकी योनि की गहराई में नए-नए स्रोत फूट रहे हों।

अक्षत कन्या के लिए यह बिल्कुल नया अनुभव था। सारा शरीर एक सुखद अनुभूति से भरे जा रहा था। उसके जेहन में तरह-तरह के भाव आ रहे थे, जिनसे वह विवश सी थी। अपने अनुभवी नायक के अधीन हो जाने के सिवा उसके पास और कोई विकल्प न रह गया। रति को अपने आगोश में ढला जान रोहित ने अधर-चुम्बन को तनिक विराम दिया। रति की आँखों में समर्पण के भाव स्पष्ट दिख रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here