मेरे सारे प्यारे दोस्तों को मेरा सेक्सी सलाम! आज मैं आपको अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ, मैं इसे पहली बार नेट पे डाल रहा हूँ।

मेरा नाम दीप है और मैं गुजरात में सूरत का रहने वाला हूँ। मैं एक 32 साल का युवक हूँ और दिखने काफी स्मार्ट और लम्बा चौड़ा हूँ।

मेरी कहानी आज से चार साल पहले की है। मेरी एक चाची है, उसका नाम दिव्या है जो एक विधवा औरत है। काफी सालों पहले मेरे चाचा का देहांत हो गया था। अभी चाची की उम्र करीब चालीस साल है लेकिन दिखने में 28-30 की लगती हैं। हालांकि उनकी दो लड़कियाँ हैं दोनों सुन्दर और सेक्सी हैं।

पहले मैं चाची के बारे में सोच-सोच कर मुठ मारता था। चाची के घर मैं कभी-कभी जाता था और उनको देख-देख के लम्बी-लम्बी साँसें भरता था।

एक दिन दोपहर को चाची का फ़ोन आया कि घर पर नया एसी लिया है जो इंस्टाल करवाना है। मैं तुंरत ही पहुँच गया, देखा के डीलर के यहाँ से दो लोग आये थे और आंटी के कमरे में एसी लगाने के बारे में बातचीत कर रहे थे।

इतने में मैं पहुंचा तो चाची ने मुझसे पूछा- दीप इसको कहाँ डलवायेंगे?
मैंने कहा- जहाँ आपकी मर्जी हो, डलवा लो!

यह सुनकर वो तिरछी नजरों से मुझे देखने लगी। लेकिन उस वक्त कुछ नहीं हुआ। कुछ दिन बाद मुझे फिर से उनका फोन आया कि एसी में कुछ गड़बड़ है, तो मैं चला गया।

मैंने देखा कि चाची कमरे में अकेली है और किसी से फोन पर बातें कर रही हैं। उतने में उनके हाथ से कॉर्डलेस फोन गिर गया और वो उसे उठाने के लिए नीचे झुकी…

माय गॉड! क्या नजारा था… उनके सफ़ेद स्तन जो कि पारदर्शक साड़ी से बाहर आने के लिए तड़प रहे थे, उन्हें मैंने देख लिया और तुंरत ही मेरा लंड खड़ा हो गया।

चाची की अनुभवी नजरों ने यह देख लिया और मेरी तरफ एक हल्की सी मुस्कान दी। मैंने भी सामने मुस्करा दिया। उस वक्त दोपहर के करीब ढाई बजे थे और घर में कोई नहीं था। हम दोनों के अलावा। चाची ने मुझे बैठने को कहा और सीधा ही पूछ लिया- क्या देख रहा था?

मैंने बिना घबराए जवाब दिया- आपको और आपके शरीर को देख रहा था, जो कि बहुत ही सुन्दर है।

चाची का फिगर बहुत बढ़िया है, उनके स्तन ऊपर की तरफ उठे हुए और 42 साइज़ के हैं। गांड का आकार भी करीब उतना ही होगा और उसका रंग एक दम दूधिया है जिसे देखकर कोई भी चूतिया मुठ मार लेगा तुरंत उसी स्थान पर!

चाची ने फिर मुझे कहा- तूने कभी मेरे बारे में सोचा है कि मैं कैसे रहती हूँ? (चाची की दोनों लड़कियाँ हॉस्टल में पढ़ती हैं। उनकी कहानी बाद में)
मैंने जवाब दिया- बहुत मुश्किल होता है अकेले रहना और जीना!

मेरे इतना कहने पर चाची मुझसे लिपटकर रोने लगी और कहने लगी- मेरा जीवन दुशवार हो गया है, तुम्हें क्या मालूम कि औरत के क्या-क्या ख्वाब होते हैं!
मैंने कहा- मुझे पता है!

और वो सुनने के बाद खुश हो गई।

मैंने सारी शर्म छोड़ कर कहा- मैं आपको नंगा देखना चाहता हूँ!
वो जल्दी ही मान गई।
उसने कहा- रुको और वो अपने कमरे में चली गई, वहाँ से लौटी तो उसने पारदर्शी कपड़े पहने थे। उसे देख कर मैं उनसे लिपट गया और चूमने लगा।
उसने कहा- रुक जाओ मेरे राजा! धीरे धीरे करो!

थोड़ी ही देर में उनका पेटीकोट बिल्कुल ऊपर तक आ चुका था। शायद वो चड्डी नही पहनती थीं, जिस कारण उनकी चूत मुझे साफ़ साफ़ दिखाई दे रही थी जिस पर हल्के से बाल थे।

उनकी चूत देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनकी जांघ पर धीरे धीरे हाथ फेरना शुरू कर दिया और उनके जिस्म के भी रोंगटे खड़े हो गए थे, थोड़ी ही देर में उन्होंने करवट ले ली और अब उनकी चूत के दर्शन मुझको साफ़ तरीके से होने लगे थे। तो मैंने भी देर ना करते हुए उनके गड्ढे में अपनी एक ऊँगली डालना शुरू कर दी पर उनकी चूत बहुत ही टाईट थी जिस वजह से मैं और पागल हो चुका था और थोड़ी देर में मैंने एक ऊँगली से दो उँगलियाँ उनकी चूत में अन्दर बाहर करना शुरू कर दी।

मैंने उसके सारे कपड़े निकाल दिए। मैंने उनकी चूत में लण्ड डालना चाहा, वो बोली- रुक जा यार! और मेरा लण्ड पकड़ के मुंह में ले लिया खूब जोर से मुंह में अन्दर बाहर करने लगी। थोड़ी देर में बोली- मेरे से रहा नहीं जाता, प्लीज़, मुझे पलंग में पटक कर चोद! प्लीज़ चोद! प्लीज़ चोद! यार चूत में बहुत खुजली हो रही है!

मैंने कहा- चाची, मैं अभी सीधा लण्ड आपकी चूत में नहीं डालूँगा!
तो बोली- क्या करेगा ?
मैंने कहा- आप पलंग के कोने पे पैर फैला के रखो, मुझे तुम्हारी चूत चाटनी है!
वो खुश हो गई- यार! पहली बार कोई मेरी चूत चाटेगा! चाट ले… जल्दी से चाट… चाट!

करीब आधे घंटे तक मैंने उसकी चूत और उसने मेरा लण्ड चाटा।

फ़िर बोली- तुम सामने सोफे पे बैठ जाओ। मैं सोफे पे बैठ गया और वो मेरे ऊपर इंग्लिश स्टाइल में बैठ गई और मेरा लण्ड अपनी चूत में डालकर पागलों की तरह गोद में कूद रही थी।

तब मैंने उनकी चूचियों को पकड़ कर चुचूकों को मसलते हुए उनके होटों को चूमा और बोला- अरे मेरी रानी! इतनी भी क्या जल्दी है? पहले मैं ज़रा तुम्हारे सुन्दर नंगे बदन का आनन्द तो उठा लूं! फ़िर तुम्हें जी भर के चोदूंगा।

मैंने उन्हें पलंग पर लिटा कर अपना सुपारा उनकी पहले से ही भीगी चूत के दरवाजे के ऊपर रखा और धीरे से कमर हिला कर सिर्फ़ सुपारे को ही अन्दर किया।

दिव्या चाची ने मेरे फ़ूले हुए सुपारे को अपनी चूत में घुसते ही अपनी कमर को झटका दिया और मेरा आठ इन्च का लण्ड पूरा का पूरा उनकी चूत में घुस गया।

तब चाची ने एक आह सी भरी और बोली- आह! क्या शान्ति मिली तुम्हारे लण्ड को अपनी चूत में डलवा कर। यह अच्छा हुआ, मुझे बहुत दिन से इच्छा थी कि किसी लम्बे लण्ड से चुदने की, आज वो पूरी हो गई। नहीं तो मेरी इच्छा पूरी नहीं होती।

अब मैं अपना लण्ड धीरे धीरे उनकी चूत के अन्दर-बाहर करने लगा। उन्होंने पहले कभी अपनी चूत में इतना मोटा लण्ड कभी नहीं घुसवाया था। शायद चाचा का लण्ड छोटा होगा, उन्हें कुछ तकलीफ़ हो रही थी। मुझे भी उनकी चूत काफ़ी टाईट लग रही थी। मैं मस्त हो कर उनकी चूत चोदने लगा।

वह मुझे भरपूर मजा दे रही रही थी। कुछ देर बाद चाची मेरे उपर आ गई और मै नीचे से चूत चाटने के साथ साथ उनके गोरे और बड़े बड़े हिप्स सहलाने लगा। चाची की चूत पानी छोड़ गई। अब मैं और नहीं रह सकता था, मै उठा और चाची को लिटा कर, उनकी टांगें चौड़ी करके चूत में लन्ड डाल दिया और चाची कराहने लगी। मै जोर जोर से धक्के लगाने लगा।

चाची ने मुझे कस के पकड़ लिया और कहने लगी- ऐसे ही करो, बहुत मजा आ रहा है, आज मैं तुम्हारी हो गई, अब मुझे रोज़ तुम्हारा लन्ड अपनी चूत में चहिये एएऊउ स्स स्सी स्स्स आह्ह्ह ह्म्म आय हां हां च्च उई म्म मा।

कुछ देर बाद मेरे लन्ड ने पानी छोड़ दिया और चाची भी कई बार स्खलित हो चुकी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here