मेरा नाम निक्की है और अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है। दोस्तो, मैं दावे से कह सकता हूँ कि मेरी यह कहानी पढ़ने के बाद सभी लड़के अपने लण्ड को मसले बिना नहीँ रह पाएंगे और सभी लड़कियाँ अपनी चूत में ऊँगली करती नज़र आयेंगी।

मेरी उम्र 25 साल है और मैं अजमेर का रहेने वाला हूँ।

बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज में पढ़ता था। कॉलेज मै प्रवेश लेने के कुछ ही दिन में हमारा अच्छा खासा ग्रुप बन गया। उसी ग्रुप में एक लड़की थी सिमी। देखने में वो एकदम सेक्सी लगती थी। जब चलती थी तो ऐसा लगता था कि दिल पर छुरियाँ चला गई। उसकी गांड बहुत ही मस्त और मोटी थी। उस पर उसका गोरा बदन और मोटे मोटे बोबे ! उसको देखते ही ऐसा लगता था कि बस कैसे भी इसे चोद डालूँ !

धीरे धीरे हमारी दोस्ती बढ़ती जा रही थी और हम एक दूसरे से मस्ती करने लगे थे। कुछ दिनों बाद इससे पहले कि कोई और उसे प्रपोज़ करता मैंने उसे प्रपोज़ कर दिया और उसने भी हाँ कह दी। बस फिर क्या था, मेरे तो मन की हो गई थी। अब तो मुझे अपना काम बनता नज़र आ रहा था। धीरे धीरे हमारा रिश्ता बढ़ने लगा और हम एक दूसरे से काफी खुलने लगे। कभी कभी मैं उसके अंगों को भी छू लेता। शुरू में तो उसने एक दो बार एतराज़ किया पर फ़िर धीरे धीरे उसे भी ये सब अच्छा लगने लगा।

अब हम दोनों काफी खुल गए थे और सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे थे। मेरी सारी योजना मुझे सफल होती नज़र आ रही थी।

एक दिन मैंने उसे एक रेस्टोरंट में चलने को कहा तो वो झट से राजी हो गई। मैं उसे अपने ही एक दोस्त के रेस्टोरंट में ले गया जहाँ पर हट-सिस्टम था। हम वहाँ कुछ देर बैठे और फिर मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपनी तरफ खींच लिया।

पहले तो वो बोली- यह क्या कर रहे हो ? कोई देख लेगा !

पर जब मैंने उसे बताया- कोई नहीं आयेगा ! यह मेरे दोस्त का ही रेस्टोरेंट है और मैंने उसे पहले ही मना कर दिया है कि हमारी हट में वेटर को दोबारा मत भेजना !

तो उसने कोई आपत्ति नहीं जताई और सीधी मेरी बाहों में आ गई। मैंने भी बिना कोई देर किये अपने होंट उसके होंटों से सटा दिए और उसे जोर से चूमने लगा। शुरू में तो वो साथ नहीं दे रही थी पर जब मेरे हाथ धीरे धीरे उसके बदन पर रेंगते हुए उसके वक्ष तक पहुँचे और मैंने उन्हें उसके कुरते के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया तो कुछ ही देर में वो भी गर्म हो गई और मेरा साथ देने लगी। उस दिन मैंने उसके होटों का मस्त रसपान किया और उसके स्तनों को भी दबा दबा कर लाल कर दिया।

इस तरह हमारा एक दूसरे के बदन से खेलना कुछ दिनों तक जारी रहा और फ़ोन पर भी मैं उससे सेक्सी बातें करता रहा।

एक दिन उसके घर कोई नहीं था तो वो कॉलेज नहीं आई। मैंने उसके घर पर फ़ोन किया तो उसने मुझे घर पर ही आने को कह दिया। मै तो कब से ऐसे ही मौके की तलाश में था। मैंने समय बर्बाद न करते हुए तुरंत ही अपनी गाड़ी उठाई और उसके घर पहुँच गया। जैसे ही मैंने घण्टी बजाई सिमी ने दरवाजा खोला। उसने हल्के गुलाबी रंग की नाइटी पहनी हुई थी और वो उसमे मस्त लग रही थी। उसने मुझे अन्दर बुलाया और बैठने को कहकर पानी लेने चली गई। वो पानी लेकर आई और मेरे सामने बैठ गई।

मैंने उससे पूछा- सब कहाँ गए हैं?

तो उसने बताया कि भाई स्कूल गया है और ५ बजे तक आयेगा और मम्मी और पापा किसी रिश्तेदार के यहाँ गए हैं और वो भी शाम तक ही आएंगे।

यह सुनकर मेरे चेहरे पर ख़ुशी साफ़ नज़र आ रही थी।

तभी उसने मुझसे पूछा- क्या लोगे ?

तो मैं भी तपाक से बोला- तुम को !

इतना सुनते ही वो बोली- तुम बहुत शरारती हो गए हो !

इतने में मैंने खड़े होकर उसे चूम लिया और अपनी बाँहों में भर लिया। धीरे-धीरे मेरे हाथ उसके बदन पर ऊपर-नीचे रेंगने लगे। वो भी मेरी बाँहों में समाती चली गई। उसके होंट मेरे होंटो से सट चुके थे। तभी मैंने उसके वक्ष पर हाथ डाल दिया और उसके मस्त मोटे स्तनों को हाथ में ले लिया और सहलाने लग गया। उसके स्तनों को हाथ में लेते ही मैं समझ गया कि आज उसने ब्रा नई पहनी है। मैंने उसे एक ही झटके में गोद में उठा लिया और पूछा- तुम्हारा बेडरूम कहाँ है?

उसने हाथ के इशारे से मुझे रास्ता बताया। बेडरूम में आकर मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया, उसकी बगल में लेट कर उसे चूमने लगा और बोला- आज मैं तुम्हारा बदन देखना चाहता हूँ !

यह कहकर मैंने उसे नाइटी उतारने के लिए कहा। पहले तो उसने मना किया पर मेरे जोर देने पर वो मान गई और नाइटी उतार दी। जैसे ही उसने नाइटी उतारी, उसके गोल गोल संतरे जैसे स्तन मेरी आँखों के सामने थे। क्या मस्त चूचियाँ थी ! उन्हें देखते ही मेरा सात इन्च का लंड सलामी देने लगा और मैं उसे अपनी बाँहों में लेकर मस्त तरीके से चूमने लग गया।

इस पर वो बोली- अब तुम्हें भी अपने कपड़े उतारने होंगे !

उसके इतना कहते ही मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार कर बिस्तर पर एक तरफ़ फ़ेंक दिए और उससे चिपक गया। उसका गोरा बदन देख कर मैं मस्त हुआ जा रहा था। अब मैं उसके गोरे गोरे और मोटे स्तन चूसने लग गया और एक हाथ को उसके पूरे बदन पर ऊपर से नीचे तक घुमा रहा था। धीरे धीरे वो गर्म होने लगी और उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी- आआह्ह्ह्ह स्सस्सस्सस उसने लाल रंग की पैंटी पहन रखी थी मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को दबा दिया और सहलाने लगा।

उसके मुँह से लगातार सिसकारियाँ निकल रही थी और वो मुझे अपनी तरफ खींच रही थी। मैंने भी मौका देखकर उसकी पैंटी मै अपना हाथ डाल दिया और धीरे से उसकी चूत के दाने को रगड़ दिया।

इतना करते ही वो एकदम से चिंहुक उठी और मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- नीचे नहीं !

पर मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने भी उसे अपनी कसम दी और उसके हाथ को हटा दिया। अब मैं उसकी चूत की फांकों को अपनी उंगलियों से अलग करने लगा और उसकी चूत के दाने को रगड़ने लग गया। वो बेचैन हो उठी और मुझे अपने से कसने की कोशिश करने लगी, उसकी सिसकारियाँ और भी बढ़ गई। थोड़ी देर में उसकी चूत से पानी निकलने लगा और मैं समझ गया कि यह चुदने के लिए बिल्कुल तैयार है।

तभी मैंने उसकी पैंटी को उसके बदन से अलग कर दिया और उसने भी कोई विरोध नहीं किया। उसकी चूत क्या मस्त थी ! बिल्कुल गुलाबी ! एक भी बाल नहीं था उसकी चूत पर ! उसे देखते ही मैं तो जैसे पागल हो गया। मैंने बिना किसी देरी के उसकी चूत पर एक चुम्मा जड़ दिया और अपने हाथ से उसे दबाने और मसलने लग गया। वो और भी उत्तेजित हो गई और मुझसे चिपक गई।

मैंने एक बार फिर से उसके होटों को चूसना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसकी चूत के दाने को छेड़ता रहा।

अब वो भी साथ देने लगी थी और उसका हाथ अपने आप मेरे लंड तक पहुँच गया था। मैंने भी धीरे से अपना जॉकी उतार दिया और अपना लंड उसके हाथों में थमा दिया। वो भी अब मेरे लंड से खेलने लगी थी मैंने उसे लंड मुंह में लेने को कहा तो उसने मना कर दिया पर मेरे जोर देने पर मान गई और उसे चूसने लगी, मेरे पूरे बदन में एकदम से बिजली सी दौड़ गई और मेरा लंड एकदम लोहे की छड़ की तरह सख्त हो गया। मेरे लंड को देखकर वो बोली- यह तो बहुत बड़ा है !

मैंने भी कह दिया- मजा भी बड़े से ही आता है !

और हम दोनों हंस पड़े। फिर मैंने उसे लिटा कर उसके बोबों को चूसना शुरू कर दिया और फिर से उसकी चूत के दाने को रगड़ने लगा और धीरे से अपनी एक ऊँगली उसकी चूत के द्वार पर रखकर अन्दर दाल दी। वो सिसकियाँ लेने लगी और मस्त होने लगी … उसकी मस्ती बढ़ने लगी थी, उसकी चूत से पानी निकलने लगा और मै समझ गया कि यही सही समय है और उसके ऊपर आकर अपने लंड को उसकी चूत के मुख का रास्ता दिखा दिया और एक हल्का सा झटका दिया पर चूत कसी होने की वजह से लंड अंदर नहीं गया…..

मैंने थोड़ा और जोर लगाया और लंड का सुपारा उसकी चूत में घुस गया और वो चीख उठी !

यह उसकी पहली चुदाई थी… वो मुझे हटाने लगी पर मैंने उसे समझाया- पहली बार में थोड़ा दर्द होता ही है !मैं उसे चूमने लग गया, थोड़ी देर में वो शांत हो गई तो मैंने दूसरा झटका लगाया और करीब आधा लंड उसकी चूत में घुस गया। उसके मुँह से चीख निकल गई और वो रोने लगी। पर मैंने रहम ना करते हुए एक और झटका मार दिया और मेरा पूरा लंड उसकी जड़ तक जा बैठा।

वो जोर से चिल्लाई पर मैंने अपने हाथ से उसका मुँह बंद कर दिया और उसे शांत रहने को कहा। उसकी आँखों से आँसू बह रहे थे। मैं कुछ देर ऐसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा और उसे चूमता रहा। उसकी चूत से खून निकल रहा था। कुछ देर में उसका दर्द कम हो गया और वो कमर हिलाने लगी। मैंने भी अब लंड अंदर-बाहर करना चालू कर दिया।

अब वो भी मजे लेने लगी थी और मेरा साथ दे रही थी और उसके मुँह से मस्त आवाज़ भी आ रही थी-आ आहऽऽ आआऽऽ अँऽऽ आ……..आआअ..हह……

और अब मैंने भी अपनी गति बढ़ा दी थी…….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here