आज मेरी बड़ी बहन को हॉस्पिटल में दाखिल करवा दिया था. उसकी डिलिवरी होने वाली थी. जीजू भी यहीं घर पर आ गये थे. यूं तो वे इसी शहर में रहते थे, और एक सरकारी विभाग में कार्य करते थे.

झीलें उन्हें विशेष रूप से पसन्द हैं. उन्हें दीदी के साथ झील के किनारे घूमना अच्छा लगता है. वो मुझे भी अपने साथ अक्सर घुमाने ले जाते थे. घूमते समय जीजू कई बार दीदी के चूतड़ के गोले दबा देते थे. यह देख कर मेरे दिल में एक मीठी सी सिरहन दौड़ जाती थी. मुझे लगता था कि काश कोई मेरे चूतड़ों को भी जोर से दबा डाले. जीजू कभी कभी मुझसे भी दो धारी बातें कर लेते हैं… उन्हें टोकने पर उनका जवाब होता था- भई, साली तो आधी घरवाली होती है… साली से मजाक नहीं करेंगे तो फिर किस से करेंगे…?

बस एक मीठी सी टीस दिल में घर कर जाती थी.

आज भी शाम को मम्मी के होस्पिटल जाते ही जीजू झील के किनारे घूमने के लिये निकल पड़े थे, मुझे भी उन्होंने साथ ले लिया था. जीजू मेरा बहुत ख्याल रखते हैं. अपनी मोटर-बाईक वो एक रेस्तरां के सामने खड़ी कर देते थे, फिर वो लगभग दो किलोमीटर पैदल घूमते थे. आज भी उन्होंने घूमते समय उन्होंने मेरी मनपसन्द की चीज़ें मुझे खिलाई. रास्ते भर वो हंसी मजाक करते रहे. मैं रास्ते में उनका हाथ पकड़ कर इठला कर चलती रही. जीजू की चुलबुली बातों का चुलबुला उत्तर देती रही. वो भी हंसी मजाक में कभी कभी मेरे चूतड़ों पर हाथ मार देते थे, कभी मेरी पीठ पर हल्के से मुक्का मार देते थे. दो तीन दिन में जीजू मेरे बहुत करीब आ गये थे.

हम दोनों अक्सर साथ साथ ही रहना पसन्द करने लगे थे. मैंने जवानी की दहलीज पर कदम रखा ही था… मेरे दिल में भी जवां सपने आने लगे थे. मेरी रातो में सपने रंगीनियों से भरे हुये होते थे. आजकल जीजू मेरे दिलो-दिमाग में छाये रहते थे. रातों में भी उन्हीं के सपने आया करते थे. मुझे लगने लगा कि मैं जीजू से प्यार करने लगी हूँ. मेरा झुकाव उनकी ओर बढ़ता ही गया. जीजू का भी लगाव मुझसे बढ़ गया था. अब हम दोनों अक्सर एक दूसरे का हाथ दबा कर शायद प्यार का इज़हार करते थे.

एक दिन तो शाम को झील के किनारे एकान्त में जीजू ने मुझसे चुम्मे की फ़रमाईश कर दी. मैं तो जैसे ये सुन कर सन्न रह गई. पर जल्दी ही मैंने अपने आप पर काबू पा लिया. मुझे लगा कि अभी नहीं तो फिर बात नहीं बन पायेगी.

मैंने शर्माते हुये जीजू के गाल पर एक चुम्मा ले लिया.

‘बस, ले लिया चुम्मा…?’ वो हंसते हुये बोले.
‘अब यशोदा, मेरी बारी है…’ जीजू को शरारत सूझ रही थी.

जीजू ने सावधानी से इधर उधर देखा और इत्मिनान से पहले तो मेरे गालों के पास अपने होंठ लाये फिर झट से मेरे होंठो को चूम लिया. मेरा दिल धक से रह गया. मैं बुरी तरह से झेंप गई थी. शर्म से गाल लाल हो गये थे. तभी मैं कुछ समझती उन्होंने अपने दोनों हाथों से मेरा चेहरा थाम लिया और मेरे लबों की ओर झुक गये. मेरे होंठ कांप उठे. मैं कुछ ना कर पाई. कुछ ही पलों में भंवरा कली का रस चूसने लगा था. इस मधुर क्षण को मैंने जी भर कर भोगा. मैंने कोई आपत्ति नहीं की… उन्हें खुली छूट दे दी. मुझे लगा को मुझे मेरी मंजिल मिल गई है. मेरा दिल जीजू के प्यार में रंगने लगा था, मुझे लगने लगा था कि जीजू के बिना अब मैं नहीं रह पाऊँगी.

हमारा प्यार दिनों-दिन फ़लने फ़ूलने लगा. दीदी ने एक प्यारी सी लड़की को जन्म दिया. घर में लक्ष्मी आई थी. सभी खुश थे. दीदी के बहाने मैं दिन भर जीजू के साथ रहती थी. कुछ दिनों बाद जीजू फिर से अपने घर में शिफ़्ट हो गये. अब मुझे उनके घर में जाकर प्रेमलीला का रास रचाने में बहुत सुविधा हो गई थी. वहाँ मुझे अकेले में टोकने वाला कोई ना था. हम दोनों मनमानी करते थे.

एक बार जब मैं जीजू के घर गई तो जीजू चाय बना रहे थे. हम दोनों ने चाय पी और हमारी प्रेम लीला चल पड़ी. पर आज तो वो हदों को पार करने लगे. चुम्मा लेते हुये उन्होंने मेरे चूतड़ का एक गोला दबा दिया. मुझे आनन्द तो बहुत आया पर शर्म के मारे कुछ नहीं कहा. थोड़ी ही देर बाद जीजू ने मेरे छोटे छोटे उभरते हुये नीम्बूओं को मसल दिया. मैं चिहुंक उठी…

‘ये क्या करते हो जीजू… दर्द होता है…! ‘ मैंने नखरे दिखाते हुये कहा.
‘अरे तो क्या?… देखो कितने रसीले हैं… और मसल दूँ!’ जीजू ने फिर से मेरी छोटी छोटी सी चूचियाँ मसल दी.
‘जीजू… नहीं करो ना… सचमुच दुखते हैं…’ मैंने उनका हाथ अपनी छाती पर दबाते हुये कहा.

उन पर वासना का नशा चढ़ने लगा था. उन्होंने मुझे लपेट लिया और बेतहाशा चूमने लगे. उनका लण्ड कड़क हो गया था. मेरा सारा शरीर जैसे झनझना उठा. मेरी नस नस जैसे तड़कने लगी थी. मैं अपने आप को उनसे छुड़ाने का स्वांग करने लगी… क्या करूँ! करना पड़ता है ना… लोकलाज़ भी तो कोई चीज़ है ना! अह्ह्ह्ह वास्तव में नहीं… वास्तव में तो मैं चाह रही थी कि वो मेरा अंग अंग मसल डालें… मेरे ऊपर चढ़ जायें और मुझे चोद दें… पर हाय रे… इतनी हिम्मत कहाँ से लाऊँ… कि जीजू को ये सब कह सकूँ.

मैं हंस हंस कर अपने आपको भाग भाग कर बचाती रही… और वे मुझ पर झपटते रहे. कभी मेरे चूतड़ दबा देते थे तो कभी मेरे छाती के उभारों को दबा देते थे. अन्त में उन्होंने मुझ पर काबू पा लिया और मुझे दबोच लिया. मैं चिड़िया जैसी फ़ड़फ़ाड़ाती रही…

मेरा टीशर्ट ऊपर उठा दिया, उनके कठोर हाथ मेरे नंगे उभारों पर फ़िसलने लगे. उन्होंने मेरे जीन्स की जिप एक झटके में खोल दी. आह्ह्ह्ह्… ये क्या… जीजू का कड़क लण्ड मेरी उतरी हुई जीन्स के बीचोंबीच स्पर्श करने लगा.

मेरी मां… क्या सच में मैं चुदने वाली हूँ…! मेरे ईश्वर… घुसा दे इसे मेरी चूत में… . मैं लण्ड का स्पर्श पाकर जैसे बहक उठी थी. मेरी चूत सच में लप-लप करने लगी थी… दो बून्द रस मेरी योनिद्वार से चू पड़ा.

मेरे और जीजू के बीच ये कपड़े की दीवार मुझे बहुत तड़पा रही थी. जीजू की तड़प भी असहनीय थी. वो मेरी उलझनें स्वयं ही दूर करने की कोशिश करने में लगे थे. उसने अपनी बनियान जल्दी से उतार फ़ेंकी, मेरी टी शर्ट भी वो ऊपर खींचने लगे…

‘नहीं करो जीजू… बस ना…!’ पर उन्होंने एक नहीं सुनी और मेरी टीशर्ट खींच कर उतार ही दी. मेरे मसले हुये निम्बू बाहर निकल आये… मसले जाने से निपल भी कड़े हो गये थे. चूचियाँ गुलाबी सी हो गई थी. उनका अगला वार दिल को घायल करने वाला था. मेरी एक चूची देखते ही देखते उनके मुख श्री में प्रवेश कर गई. मैं जैसे निहाल हो गई.

‘आह्ह्ह रे जीजू, मार डालोगे क्या… अब बस करो ना… ‘ मेरी उत्तेजना तेज हो गई थी. चूत का दाना भी कसक उठा था. चूत में मीठी गुदगुदी तेज हो उठी थी. उसका कड़ा लण्ड बार बार इधर उधर घुसने की कोशिश कर रहा था. जीजू से नहीं गया गया तो उन्होंने उठ कर मेरी जीन्स नीचे खींच दी. मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया. मेरी चूत पर पंखे की ठण्डी मधुर हवा महसूस होने लगी थी. जीजू ने भी अपनी पैन्ट उतार दी और अपना बेहतरीन लम्बा सा सिलेन्डर नुमा लण्ड मेरे सामने कर दिया. मैंने शरम से अपनी आंखें बन्द कर ली. मैं इन्तज़ार कर रही थी कि अब कब मेरी योनि का उद्धार हो? मेरे दिल में शूल गड़े जा रहे थे… हाय ये लण्ड कहाँ है? कहाँ चला गया?

तभी मेरे होंठों पर मुझे कुछ मुलायम सा चिकना का स्पर्श हुआ… मेरा मुख स्वतः ही खुलता चला गया और उनका गोरा लण्ड मेरे मुख में समां गया. अरे… ये क्या हुआ?… उनका प्यारा लण्ड मेरे मुख श्री में!!! इतना मुलायम सा… मैंने उसे अपने मुख में कस लिया और उसे चूसने लगी. जीजू भी अपना लण्ड चोदने जैसी प्रक्रिया की भांति मुख में अन्दर बाहर करने लगे. उनका एक हाथ मेरी चूत और दाने को सहलाने लगा था. मैं वासना में पागल सी हुई जा रही थी.

तभी जीजू बोले- यशोदा… कैसा लग रहा है…? मुझे तो बहुत मजा रहा है.’

‘जीजू, आप तो मेरे मालिक हो… बस अब मुझे लूट लो… मेरी नीचे की दीवार फ़ाड़ डालो!’ मैं जैसे दीवानी हो गई थी.

‘ये लो मेरी जान… ‘ जीजू ने अपना शरीर ऊपर उठाया और मेरी चूत के लबों पर अपना लण्ड रख दिया. मेरे पूरे शरीर में एक सिरहन सी दौड़ गई. मेरी चूत उसका लण्ड लेने को एकदम तैयार थी.

‘तैयार हो जान…?’ जीजू के चेहरे पर पसीना आने लगा था.
‘अरे, तेरी तो… घुसेड़ो ना…’ उत्तेजना के मारे मेरे मुख से निकल पड़ा.

जीजू ने अपने चाकू से जैसे वार कर दिया हो, तेज मीठी गुदगुदी के साथ चाकू मेरी चूत को चीरता हुआ भीतर बैठ गया.
‘जीजू, जोर से मारो ना… साली को फ़ाड़ डालो…! ‘ मेरे चूत में एक मीठी सी, प्यारी सी कसक उभर आई.
‘क्या बात है… रास्ता तो साफ़ है… पहले भी चक्कू के वार झेले हैं क्या?’
‘आपकी कसम जीजू, पहली बार किसी मर्द का लिया है… अब रास्ता तो पता नहीं!’

जीजू मेरे लबों पर अंगुली रख दी.
‘बस चुप… तू तो बस मेरी है जान… ये लण्ड भी तेरा है…’
‘जीजू, मेरे साथ शादी कर लो ना… छोड़ो ना दीदी को…’ मेरा मन जैसे तड़प उठा.

‘अरे दीदी अपनी जगह है, साली अपनी जगह, फिर तुम आधी घर वाली तो हो ही, तो चुदवाने का हक तो तुम्हें है ही… चल अब मस्त हो जा… चुदवा ले!’ जीजू ने लण्ड घुसेड़ते हुये कहा. मैं कसक के मारे मस्त हो उठी थी.

तभी उसका एक जबरदस्त धक्का चूत पर पड़ा. मेरी चीख सी निकल गई.
‘जीजू जरा धीरे से मारो… लग जायेगी!’ पहली बार मेरी चूत ने लण्ड लिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here