मेरा नाम विकास है, भोपाल में रहता हूँ, मेरी उम्र बाइस साल है और मेरा कद 5 फीट 11 इंच, रंग गोरा और स्लिम बॉडी है, दिखने में किसी मॉडल जैसा हूँ।

मैं आपको जो कहानी बताने जा रहा हूँ वो मैं अक्सर सपनो में देखा करता हूँ !

दरअसल मैं कुछ दिन पहले जिम जाया करता था वज़न बढाने के लिए ! वहाँ एक लड़का आया करता था निकांत ! गज़ब की बॉडी थी उसकी और दिखने में भी स्मार्ट था।

फिर एक दिन सुबह सुबह मैं जिम गया और चेंजिंग रूम में कपड़े बदलने गया और वहाँ जो देखा वो देख कर मैं दंग रह गया।

वहाँ निकांत कपड़े बदल रहा था पूरा नंगा ! वो कुण्डी लगाना भूल गया था, पसीने से तर था उसका शरीर ! और उसका लिंग जो सोया हुआ था, वही करीब 5 इंच का लग रहा था।

मैंने उसे देखा और सॉरी बोला।

और वो भी मुझे देख कर शरमा गया और सॉरी बोलने लगा।

वो उसके बाद घर चला गया और मैं कसरत करने लगा और घर चला गया !

उस रात को जब मैं सोने गया तो उसका नंगा जिस्म मेरी आँखों के सामने आ रहा था। फिर पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैं उठा और याहू पर गे-रूम में चैट करने लगा और यह मेरा रोज का काम हो गया। उस रात मैंने गे लोगों से कई सवाल किये- जैसे कितना दर्द होता है? कैसा महसूस होता है? और पता नहीं क्या-क्या ! सब बात करने क बाद जब मैं सोया तो मुझे यह सपना आया-

मैं सुबह-सुबह जिम गया, देखा तो वहाँ सिर्फ मैं और निकांत थे। वो भारी कसरत कर रहा था और पसीने से नहाया हुआ था, मैं बस कसरत करते हुए उसे ही देख रहा था। फिर मैंने उसे बहाने से बुलाया और कसरत के तरीके पूछने लगा।

फिर बातों ही बातों में मैंने उसे कहा- यार, तेरी बॉडी तो बहुत मस्त है !
तो वो बोला- सब मेहनत का फल है !

तो मैंने मजाक के लहजे में कहा- कसरत तो शरीर की करते हो ! फिर हथियार इतना मस्त कैसे? उसकी भी कसरत करते हो ?

तो वो वो एकदम से बोला- हाँ करता हूँ !
मैंने पूछा- मुठ मारते हो?
तो वो बोला- नहीं गांड मारता हूँ लोगों की !
मैंने कहा- सही मजाक करते हो !

तो वो बोला- नहीं ! सच में मारता हूँ !

मेरे मन में लड्डू फ़ूट पड़े और मैंने उसे जोश में दिलाने के लिए कहा- सच में तुम्हें जो नंगा देख ले, वो मरा ही लेगा !

तो वो बोला- तुमने तो नहीं मराई?
मैंने हिम्मत करके कहा- मार लो आज !

उसने कहा- सोच लो ! एक बार शुरू हुआ तो नहीं रुकता मैं ! और लगता नहीं कि तुम मुझे सह पाओगे ?
मैंने भी जोश में कह दिया- चलो देख लेंगे !

उसने झट से मुझे खींच लिया अपनी तरफ और मेरी टी शर्ट उतार दी और खुद की चड्डी उतार कर लिंग बाहर निकाल लिया और कहा- चूस इसे !

तब उसका लिंग सोया हुआ था, मैंने उसे मुँह में लिया और चूसने लगा।
बस फिर क्या था, उसका लिंग गुब्बारे की तरह फूलता गया और मेरे मुँह में फंसने सा लगा !
वो बोला- ढंग से चूस ! कैसे चूस रहा है ?

मैंने कहा- पहली बार है ! नहीं आता मुझे ठीक से !
उसने कहा- मैं चुसवाऊँ ठीक से?
मैंने कहा- ठीक है, तुम्हारी मर्ज़ी !

उसने मुझे बेंच पर लिटाया और मेरे मुँह में लिंग डालने लगा जो मेरे मुँह में आ तो रहा था पर फंस रहा था। और फिर वो लिंग से झटके मारने लगा, पहले ही झटके में उसका लिंग मेरे गले में उतर गया और फिर मैं मुँह खोले ही रह गया और वो मेरा मुँह चोदता रहा जोर जोर से और करीब दस मिनट बाद एक जोर का सैलाब मेरे मुँह में आया और मेरे मुँह में उसका वीर्य भर गया और वो तब भी मेरा मुँह चोदता रहा जिससे मुझे वो निगलना पड़ा !

अब उसका लिंग फिर ढीला हो गया और मेरी हालत भी कुछ ठीक नहीं थी। करीब दस मिनट बाद मैं साँस ले पा रहा था ठीक से !

फिर वो दो मिनट रुका और फिर अपने हाथ से लिंग को जगाने लगा और फिर मेरे मुँह में डाला और कहा- चूस ठीक से नहीं तो फिर मैं चुसवाता हूँ !

मैंने जल्दी चूसना शुरू किया और उसका लिंग फिर खड़ा था !

उसने उसकी ऊँगली पर थूक लगाया और मेरी गांड में डालने लगा। पर मैंने कभी मराई नहीं थी तो उसकी ऊँगली नहीं गई अन्दर !

फिर उसने जिम की मशीन में लगाने वाला सफ़ेद ग्रीस उठाया और पोत दिया मेरी गाण्ड के छेद पर और उंगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। फिर मुझे घोड़ी बना कर मेरी गांड के छेद में लिंग टिका दिया और रगड़ने लगा।

मेरी साँस अटकी पड़ी थी, लगा कि अब घुसेगा ! अब घुसेगा ! पर वो पाँच मिनट तक रगड़ता रहा और फिर जब मुझे लगा कि और समय लगेगा तो एक जोरदार झटका लगा और उसके लिंग का अग्रभाग मेरी गांड में था।

मेरी साँस अटक गई अभी साँस छोड़ी भी नहीं थी कि एक और झटका और उसका आधा लिंग मेरी गाण्ड चीरता हुआ घुस गया और मेरी आँखों से आँसू बहने लग गए।

और फिर वो ऐसा शुरू हुआ जैसे कोई पागल कुत्ता हो ! मेरी गांड के चीथड़े उड़ा दिए उसने ! दर्द से मेरी हालत ख़राब हो गई थी पर फिर मज़ा आने लगा, दर्द मीठा हो गया और कुछ देर में मैं झड़ गया और फिर तो जैसे क़यामत आ गई। मुझे फिर दर्द होने लगा और मैं सिसकियाँ लेता रहा फिर वो भी झड़ गया और मेरी गांड में लिंग डाले ही मेरे ऊपर लेट गया !

तो यह था मेरा वो सपना जिसने मुझे मर्दों की ओर आकर्षित किया। तब से लेकर आज तक मैंने कई लिंग देखे कैमरे पर, पर कोई जंचा नहीं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here