प्रेषक : अमित शुक्ला

मैंने अन्तर्वासना में बहुत सी कहानियाँ पढ़ी लेकिन आज मैं अपनी ज़िन्दगी की एक सच्ची घटना आप लोगो के साथ बांटना चाहता हूँ !

यह घटना तब की है जब मैं ग्यारहवीं में पढ़ता था, तब हम एक किराये के मकान में रहते थे, उस मकान मालिक की तीन लड़कियाँ थी। चूंकि हम वहाँ तब से रह रहे थे जब मैं दूसरी कक्षा में था तो हमारे और मकान मालिक के परिवार के परिवार में काफी अच्छे सम्बन्ध थे क्योंकि हमारी जाति भी एक ही थी।

उनकी तीनों लड़कियाँ मुझसे उम्र में बड़ी थी। आप समझ सकते हैं कि सबसे छोटी लड़की मुझसे 5 साल बड़ी थी और उन सबको मैं दीदी ही कहता था। कुछ दिनों बाद उनकी सबसे बड़ी लड़की की शादी हो गई। धीरे-धीरे मैं भी बड़ा होने लगा था और मेरी उन दोनों बहनों से अच्छी पटती थी, लेकिन पता नहीं क्यों उनकी सबसे छोटी लड़की जिसका नाम प्रिया था, प्यार से घर के सभी लोग उसको अनु बुलाते थे, मैं उसकी तरफ आकर्षित होने लगा, उसकी लम्बाई साढ़े पाँच फ़ीट और क्या फिगर थी 34-28-32 और नौवीं कक्षा से ही उसके नाम की मुट्ठ मारने लगा था। लेकिन कभी उससे बोलने की हिम्मत नहीं हुई क्योंकि एक तो वो मुझसे उम्र में बड़ी और फिर मैं उसको दीदी बोलता था। गर्मियों में हम साथ-साथ लूडो खेलते, कभी कैरम…. इसी तरह से दिन बीत रहे थे और मैं अपनी जिंदगी हाथ से काम चला कर बिता रहा था। जब कभी मौका मिलता तो उसके हाथों को छू लेता या किसी बहाने से उसके बदन को हाथ लगाता।

एक बार रात में लूडो खेलते खेलते मैं उसके कमरे में सो गया और वो मेरे पास ! लेकिन उसको अपने बगल में पाकर मेरी नींद अब मुझसे कोसों दूर थी। सबके सो जाने के बाद मैंने हिम्मत करके उसके पेट पर अपना हाथ रख दिया और उसे गहरी नींद में सोता देख कर उसकी चूचियों पर भी रख दिया लेकिन वो कुछ नहीं बोली। लेकिन जैसे ही मैंने धीरे धीरे दबाना शुरू किया तो उसकी नींद खुल गई और उसने मुझे एक जोरदार थप्पड़ मारा। तब मेरा यह भ्रम टूटा कि उसके मन में भी मेरे लिए कुछ है।

इस घटना के बाद मैं इतना शर्मिंदा हुआ कि मैंने उससे बात करना बंद कर दिया, उसने भी मुझसे बात करने की जरुरत नहीं समझी।

धीरे-धीरे दिन बीतने लगे लेकिन हम दोनों ने कभी किसी और को यह जाहिर नहीं होने दिया कि हमारे बीच कुछ ऐसा हुआ है।

कहानी में मोड़ तब आया जब उसकी बीच वाली बहन की भी शादी तय हो गई। शादी के माहौल में मेरा व्यस्तता और भी ज्यादा हो गई क्योंकि घर में तरह तरह के काम होते थे। उसके साथ मेरी थोड़ी बात भी होने लगी थी क्योंकि उस बात को काफी दिन बीत चुके थे। उसकी बहन की अच्छे से शादी हो गई और उसके बाद वो काफी अकेली सी हो गई। इसी दौरान अप्रैल में हमारे पेपर भी शुरू हो गए। मैं ग्यारहवीं में और वो ऍम. ए. में अकेले होने की वजह से मुझसे अच्छे से बात करती और एक तरह से फिर से हमारी अच्छी पटने लगी थी। लेकिन अब मेरे दिमाग में ऐसा कुछ भी नहीं था क्योंकि मुझे हमेशा वो थप्पड़ याद आ जाता था। हम दोनों पूरी दोपहर और देर रात तक छत में बैठे पढ़ते रहते थे।

तब एक बार हुआ यों कि एक दिन भारत और न्यू ज़ीलैण्ड का मैच हो रहा था और हमारी शर्त लग गई। मैंने कहा कि भारत जीतेगा और उस दिन भारत जीत भी गया। लेकिन शर्त में क्या है यह तय नहीं हुआ था।

तो मैंने कहा- मैं शर्त जीत गया !

तो उसने कहा- ये लो पचास रुपये और मंगा लो जो मंगाना है !

मैंने कहा- यह तो तय नहीं हुआ था कि पैसे की शर्त है !

उसने कहा- तो फिर?

मैं बोला- बात तो यह थी कि जो मर्जी हो !

उसने कहा- ठीक है बताओ क्या चाहिए ?

मैंने कहा- तुम्हारे बाल !

उसने बोला- अगर बाल ले लोगे तो मैं खराब दिखूंगी !

फिर मैंने कहा- अपनी आँखें दे दो !

तो उसने कहा- मैं देखूंगी कैसे?

फिर मैंने कहा- अच्छा अपने होंठ दे दो !

तो उसने कहा- ले लो !

मैं दौड़ कर एक चाकू उठा लाया। जैसे ही उसके होंठो पर मैंने चाकू रखा, उसने कहा- और कोई तरीका नहीं है होंठ लेने का?

मुझे पता नहीं क्या हुआ, उसकी नशीली आँखों को देख कर मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए और उसको चूम लिया, फिर मैंने उसको बोला- मैं आपको बहुत दिनों से पसंद करता था लेकिन उस थप्पड़ के बाद हिम्मत नहीं हुई।

और मैंने उसको ‘आई लव यू’ बोल दिया।

उसने भी कहा- अब मैं भी तुमको पसंद करने लगी हूँ ..

इस तरह से हमारी प्रेम कहानी शुरू हुई। जब कभी भी मौका मिलता, हम एक दूसरे को चूमते, मैं उसकी चूचियों को दबाता-सहलाता। जब कोई आस-पास नहीं होता तो जल्दी जल्दी उसके चुचूक भी चूसता। वो भी मेरे लंड को सहलाती और लंड पर अपने होंठ रख कर चूम्ती, लेकिन हमारी चुदाई नहीं हो पाती क्योंकि ऐसा मौका नहीं मिलता था।

लेकिन कहते हैं ना कि प्यार छुप नहीं पाता और धीरे धीरे सबको शक होने लगा !

और एक दिन छत पर उसको लिटा कर 69 अवस्था में मैं उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी। पड़ोस में रहने वाले एक लड़के ने हमें देख लिया और धीरे-धीरे उसके घर वालों को भी पता लग गया कि हमारे बीच में कुछ चल रहा है।

हमें वो घर छोड़ना पड़ा लेकिन एक तरफ हमारे दिल एक-दूसरे के लिए और दूसरी तरफ मेरा लंड और उसकी चूत एक दूसरे से मिलने के लिए तड़प रहे थे। हमने बाहर मिलना शुरू किया लेकिन ज्यादा पैसे न हो पाने की वजह से हम कहीं होटल में जाकर भी चुदाई नहीं कर सकते थे, बस जिस पार्क में बैठते थे, वहीं थोड़ी मस्ती कर लेते थे। लेकिन जब भी मैं उसको चोदने के लिए पूछता तो कहती कि नहीं यह गलत है, जितना हो रहा है उतना ही बहुत है।

लेकिन मैं अब मुट्ठ मार-मार कर थक गया था और उसको हर हाल में चोदना चाहता था !

एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली और मेरे परिवार को एक शादी में मुंबई जाना पड़ा एक हफ्ते के लिए।

मैंने उसको अपने घर बुलाया तो थोड़ी ना-नुकुर के बाद आने को तैयार हो गई..

जैसे ही वो कमरे में आई मैंने उसको अपनी बाहों में भर लिया और बोला- कब से तुम्हरे लिए तड़प रहा था !

उसने भी मुझे अपनी बाहों में ले लिया और चूमने लगी….. मैं चूमते हुए उसकी चूचियाँ दबा रहा था और धीरे से उसकी चूत को सहलाने लगा, उसके मुँह से सेक्सी-सेक्सी आवाजें निकलने लगी… धीरे से मैंने उसको बिस्तर पे लिटाया और कपड़े उतारने लगा, लेकिन उसने कहा कि वो शादी के पहले सेक्स नहीं करना चाहती..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here